कर्नाटक चुनाव में अब 'नीबू' पर राजनीति, पढ़ें क्‍या है पूरा मामला

कर्नाटक के चुनावी समर में अब नींबू को लेकर राजनीति तेज़ है. मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने हाथ में नींबू दिखने पर बीजेपी ने उन्हें अंधविश्वासी बताने में देर नहीं लगाई.

कर्नाटक चुनाव में अब 'नीबू' पर राजनीति, पढ़ें क्‍या है पूरा मामला

कर्नाटक चुनाव में नींबू पर राजनीति गरमाई

खास बातें

  • मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने हाथ में नींबू दिखाया
  • बीजेपी ने मुख्यमंत्री सिद्धरमैय को अंधविश्वासी बताया
  • सीएम ने किया पलटवार और इसे कन्नड़ संस्कृति से जोड़ दिया
बेंगलुरू :

कर्नाटक के चुनावी समर में अब नींबू को लेकर राजनीति तेज़ है. मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने हाथ में नींबू दिखने पर बीजेपी ने उन्हें अंधविश्वासी बताने में देर नहीं लगाई तो दूसरी तरफ सीएम ने भी पलटवार करने में देर नहीं लगाई. इसे कन्नड़ संस्कृति से जोड़ दिया है. 

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने फिर कहा : चामुंडेश्वरी विधानसभा से ही लडूंगा चुनाव

बीजेपी ने कहा कि एक तरफ तो वह ऐसी चीजों को बढ़ावा देते हैं जबकि दूसरी तरफ हिन्दू परंपराओं का‘ अनादर करने और उन्हें आपराधिक बनाने के लिए’ अंधविश्वास विरोधी कानून ला रहे हैं. कर्नाटक बीजेपी ने एक ट्वीट कर कहा, ‘हाथ में नींबू लेकर प्रचार करना और दूसरी ओर हिन्दू परंपराओं का अनादर करने और उन्हें आपराधिक बनाने के लिए अंधविश्वास विरोधी कानून लाना. सिद्दरमैया आपका नाम पाखंड है.’ बीजेपी ने एक फोटो भी पोस्ट किया है, जिसमें वह हाथ में नींबू लेकर प्रचार कर रहे हैं.

मैसूर के चामुंडेश्वरी में चुनाव प्रचार के वक्त मुख्यमंत्री सिद्दरामैया के हाथ में नीबू क्या दिखा बीजपी ने हमला करने में देर नहीं लगाई. बीजेपी प्रवक्ता एस प्रकाश ने कहा कि जिस आदमी ने अंधविश्वास निरोधक कानून बनाया वो ही अगर नींबू लेकर अंधविश्वास फैलाएगा तो मज़ाक तो बनेगा ही.

कर्नाटक विधानसभा चुनाव जीतने के लिए BJP ने चला यह दांव

सिद्दरामैया भी कहां पीछे रहने वाले थे उन्होंने ट्वीट किया कि फेंक न्यूज़ अगर बीजेपी फैलाएगी तो स्मृति ईरानी गलत खबर फैलाने के आरोप में कार्रवाई करेंगी. मुख्यमंत्री सिद्दरामैया ने कहा कि किसी ने मुझे नीबू दिया और मैंने हाथ में रखा. ये कर्नाटक का ट्रेडिशन है इसमें क्या गलत है. इसके जवाब में बीजेपी ने तीन अलग-अलग सालों और जगहों का एक और ट्वीट जारी कर पूछा कि क्या सभी नीबू एक ही आदमी ने दिये. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर नींबू को लेकर इतना सियासी बवाल क्‍यों मचता है. 

हिन्‍दू मान्‍यता है कि नींबू नकारात्मक शक्तियों को दूर रखती है लेकिन अगर कोई हाथ में नींबू लेकर घूमे तो ये अंधविश्वास के इलावा कुछ भी नहीं. इसका कोई वैज्ञानिक आधार नही है. इससे पहले कहते हैं कि एक बार मुख्यमंत्री सिद्दरामैया की कार पर कौवा बैठा तो उन्होंने कार ही बदल दी थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: सिद्धारमैया पर बीजेपी ने लगाया अंधविश्वासी होने का आरोप