कर्नाटक के राज्यपाल ने भी कभी छोड़ी थी पीएम मोदी के लिए अपनी सीट

मोदी के करीबी समझे जाने वाले 79 वर्षीय वाला राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ ( आरएसएस ) के पुराने स्वयंसेवक हैं और उनके नाम पर गुजरात के वित्त मंत्री के तौर पर 18 बजट पेश करने का रिकार्ड है.

कर्नाटक के राज्यपाल ने भी कभी छोड़ी थी पीएम मोदी के लिए अपनी सीट

पीएम मोदी की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति बनने के बाद अपनी भूमिका को लेकर चर्चा में आए राज्यपाल वजूभाई वाला ने गुजरात में कभी पीएम मोदी के लिए अपनी विधानसभा सीट छोड़ी थी. ताकि उस समय पहली बार मुख्यमंत्री बने नरेंद्र मोदी 2001 में अपना पहला चुनाव लड़ पाएं. मोदी के करीबी समझे जाने वाले 79 वर्षीय वाला राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ ( आरएसएस ) के पुराने स्वयंसेवक हैं और उनके नाम पर गुजरात के वित्त मंत्री के तौर पर 18 बजट पेश करने का रिकार्ड है. भाजपा की गुजरात इकाई में संकट प्रबंधक की छवि हासिल कर चुके वजूभाई वाला को 1990 के दशक के मध्य में तब प्रदेश पार्टी अध्यक्ष बनाया गया था जब शंकरसिंह वाघेला ने बगावत कर दी थी.

यह भी पढ़ें: कर्नाटक की जनता को बधाई, बीजेपी कार्यकर्ताओं को सौ-सौ सलाम : पीएम मोदी

और केशुभाई पटेल सरकार गिर गई थी.वह गुजरात के वित्त मंत्री के रूप में 2002 से 2012 तक मोदी के बाद दूसरे नंबर पर थे. केशुभाई पटेल के दौर में भी उनका यही दर्जा था. गौरतलब है कि वाला ने अपने गृह नगर राजकोट से आरएसएस के साथ अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की थी. उस दौरान वह जनसंघ से जुड़े और आपातकाल में जेल में भी गए. (इनपुट भाषा से) 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com