टीपू सुल्‍तान विवाद: गिरीश कर्नाड को मिली कलबुर्गी जैसा हाल करने की धमकी, सुरक्षा बढ़ाई गई

टीपू सुल्‍तान विवाद: गिरीश कर्नाड को मिली कलबुर्गी जैसा हाल करने की धमकी, सुरक्षा बढ़ाई गई

फाइल फोटो

बेंगलुरू:

टीपू सुल्‍तान की जयंती मनाने के कर्नाटक सरकार के फैसले को लेकर जारी विरोध थमने को नाम नहीं ले रहा है। राज्‍य की कांग्रेस सरकार को इस बात का जरा भी अंदाजा नहीं रहा होगा कि उसका यह निर्णय इस कदर विवाद का केंद्रबिंदु बन जाएगा। इस मसले को लेकर राज्‍य में विरोध प्रदर्शन जारी है। टीपू विरोधियों के निशाने पर अब ज्ञानपीठ अवार्डी नाटककार और अभिनेता गिरीश कर्नाड हैं।

टीपू के समर्थन में बयान देने के लिए कथित तौर पर कर्नाड और भाजपा के एक सांसद को जान से मारने की धमकियां  मिली हैं। दरअसल, कर्नाड को टीपू सुल्‍तान का पक्ष लेने और बेंगलुरू एयरपोर्ट का नामकरण टीपू पर करने के बयान को लेकर निशाना बनाया जा रहा है। एक ट्वीट में कहा गया है, 'ज्ञानपीठ अवार्डी का हाल भी एमएम कलबुर्गी की तरह होगा।'  लेखक कलबुर्गी की इसी साल महाराष्‍ट्र में उनके घर पर गोली मारकर हत्‍या कर दी गई थी।

भाजपा नेता प्रताप भी निशाने पर
हालांकि, बाद में इस ट्वीट को डिलीट कर दिया गया, लेकिन ऐहतियात के तौर कर्नाड के घर के बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई है। भाजपा नेता प्रताप सिम्‍हा को भी फेसबुक पर जान से मारने की धमकी मिली है। प्रताप ने कथित तौर पर कहा था कि  सिद्धारमैया सरकार टीपू की जयंती को मनाकर राज्‍य में नफरत फैला रही है।

दरअसल, कर्नाड की ओर से की गई टीपू सुल्‍तान की प्रशंसा विरोधियों को रास नहीं आ रही। बेंगलुरू एयरपोर्ट का नामकरण केमपेगौड़ा के बजाय टीपू पर करने का सुझाव भी दक्षिणपंथियों को पसंद नहीं आ रहा है। वैसे विवाद बढ़ता देखकर कर्नाड ने 'डैमेज कंट्रोल' की कोशिश की है। उन्‍होंने कहा कि , 'यदि मेरी टिप्‍पणी से कोई आहत हुआ हो तो मैं माफी मांगता हूं।' केमपेगौड़ा विजयनगर साम्राज्य के तहत जागीरदार थे, जिन्होंने 1537 में बेंगलुरू की स्थापना की थी।

विहिप नेता बोले, कर्नाड सिद्धारमैया के आदमी
विहिप के राज्‍य सचिव बासवराज, कर्नाड के बयान को लेकर सर्वाधिक मुखर हैं। वे टाउन हाल में इस मसले पर हुए विरोध प्रदर्शन का हिस्‍सा रहे हैं। उन्‍होंने कहा, 'केम्‍पेगौड़ा इस शहर के संस्‍थापक थे। हम गिरीश कर्नाड के बयान की आलोचना करते हैं। वे लेखकर नहीं है, केवल मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया के आदमी हैं।'

विहिप कार्यकर्ता की मौत से भड़का था गुस्‍सा
 इस मुद्दे पर भाजपा के कोडागु  बंद के दौरान हुए हुए प्रदर्शन में एक विहिप कार्यकर्ता की मौत ने विरोधियों के गुस्‍से को और बढ़ा दिया है। पुलिस का कहना है कि कार्यकर्ता की मौत महज एक हादसा थी और लाठीचार्ज से बचने के लिए भागने के दौरान गिरना इस मौत का कारण था।

भाजपा कर रही सीबीआई या न्‍यायिक जांच की मांग
दूसरी ओर, भाजपा इस मसले पर पुलिस को क्‍लीनचिट देने को तैयार नहीं है। भाजपा नेता और राज्‍य के पूर्व गृह मंत्री आर. अशोक ने एनडीटीवी से कहा, 'सौ फीसदी यह हत्‍या है। उन्‍होंने यह किया है। यह पूरी तरह सामुदायिक झड़प और सरकार की नाकामी थी। सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं थे। यह सोचा-समझा मर्डर है। भाजपा मामले की सीबीआई या न्‍यायिक जांच की मांग कर रही है।'

न्‍यायिक जांच को तैयार नहीं सीएम
हालांकि सीएम सिद्धारमैया ने ऐसी किसी भी जांच से इनकार किया है। उन्‍होंने कहा, 'न्‍यायिक जांच की कोई जरूरत नहीं है। मैं पहले ही मैसूर के रीनजनल कमिश्‍नर को मामले की जांच के आदेश दे चुका हूं। सांप्रदायिक झड़प में मारे जाने वाले किसी भी शख्‍स के परिजनों को पांच लाख रुपए का आदेश है। टीपू सुल्‍तान देशभक्‍त और स्‍वतंत्रता सेनानाी थे। वे धर्मनिरपेक्ष व्‍यक्ति थे। इसलिए हम उनकी जयंती मना रहे हैं।'

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com