NDTV Khabar

कठुआ-उन्नाव रेप के विरोध में देश भर में प्रदर्शन, दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग

दिल्ली के अलावा मुंबई, बेंगलुरु, गोवा, भोपाल और केरल सहित देश के कई शहरों में लोग सड़कों पर उतरे और दोषियों को जल्द से जल्द सजा देने की मांग की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कठुआ-उन्नाव रेप के विरोध में देश भर में प्रदर्शन, दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग

बेंगलुरु के फ्रीडम पार्क में कठुआ और उन्नाव रेप के खिलाफ विरोध करतीं महिलाएं.

खास बातें

  1. देश के कई शहरों में हुआ विरोध-प्रदर्शन
  2. दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग
  3. पूर्व अधिकारियों का पीएम मोदी को खुला खत
नई दिल्ली: कठुआ और उन्नाव रेप केस के विरोध में पूरे देश में जगह-जगह विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. दिल्ली के अलावा मुंबई, बेंगलुरु, गोवा, भोपाल और केरल सहित देश के कई शहरों में लोग सड़कों पर उतरे हैं. पिछले दो हफ्तों में गैंगरेप और हत्या के दो मामलों ने पूरे देश को सकते में डाल दिया है. पिछले हफ्ते रविवार को यूपी के उन्नाव की एक महिला ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश की थी. महिला का आरोप था कि बीजेपी विधायक ने उसके साथ रेप किया है. पूरे देश में इस मुद्दे पर चर्चा और विरोध के बाद आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार कर सीबीआई रिमांड पर भेज दिया गया है.

यह भी पढ़ें : Kathua Rape Case: हेमा मालिनी की मांग- दोषियों को तत्काल मिले मौत की सजा

वहीं, दूसरा सनसनीखेज मामला जम्मू कश्मीर के कठुआ से सामने आया. यहां 8 साल की बच्ची की अपहरण के बाद कई दिनों तक गैंगरेप करने के बाद हत्या कर दी गई. वहीं, एक दिन पहले गुजरात के सूरत में एक 9 साल की बच्ची का शव बरामद हुआ. उसके शरीर पर 100 के करीब चोट के निशान थे. इसे देखते हुए लोगों का गुस्सा चरम पर है. देश के कई शहरों में लोग सड़कों पर विरोध प्रदर्शन कर न्याय की मांग कर रहे हैं. मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शुक्रवार को अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा था कि कोई भी अपराधी बचेगा नहीं, न्याय होगा और पूरा होगा. 
 
दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, गोवा और केरल के अलावा देश के कई शहरों में हजारों लोग कैंडल लाइट मार्च में शामिल हुए और न्याय की मांग की. इन शहरों के अलावा अजमेर और भोपाल में भी लोग सड़कों पर उतरे. गैंगरेप की घटना के बाद और सख्त कानून की मांग को लेकर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल भी दिल्ली के राजघाट में अनिश्चित कालीन अनशन पर हैं. उनकी मांग है कि बच्चियों के बलात्कारियों को 6 महीने के अंदर फ़ांसी की सज़ा का क़ानून बने. आज हड़ताल की जगह पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी पहुंचे.

 
स्वाति मालीवाल ने पीएम मोदी से पूछा है कि क्या उन्हें बच्चियों की खून भरी चीखें नहीं सुनाई देतीं? वहीं केजरीवाल ने कहा कि वो मुख्यमंत्री नहीं बल्कि एक बहन के भाई और एक बेटी के पिता के तौर पर आए हैं.
 
उधर, बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा और प्रोड्यूसर एकता कपूर ने भी अपने प्रशंसकों से बांद्रा के कार्टर रोड पर होने वाले प्रदर्शन में हिस्सा लेने की अपील की है. वहीं, मुंबई में प्रदर्शन में शामिल हुए गायक और म्यूजिक डायरेक्टर विशाल डडलानी ने रेप केस को जल्द निपटाने के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट की मांग की है.  बांद्रा में लोग सड़कों पर उतरे और दोषियों को कड़ी से कड़ी सज़ा देने की मांग की. 

टिप्पणियां
VIDEO :  आरोपियों को बचाने की कोशिश क्यों?


कठुआ और उन्नाव की घटनाओं के मद्देनज़र देश के कई जाने माने पूर्व अधिकारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला खत लिखा है. खत में लिखा गया है कि कठुआ और उन्नाव की दर्दनाक घटनाएं दिखाती हैं कि सरकार अपनी बहुत ही मूल ज़िम्मेदारियों को पूरा करने में भी नाकाम रही है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement