केरल के 'कोरोना सुपर-स्प्रेडर्स' के इस गांव में तैनात किए गए कमांडो, वायरस का नया केंद्र बनने की आशंका

केरल के एक गांव में कोरोनावायरस के मामलों में आई तेजी के बाद इस गांव को खाली करके यहां पर 25 कमांडो को तैनात किया गया है. इस गांव में कई 'super-spreaders' की पहचान की गई है.

केरल के 'कोरोना सुपर-स्प्रेडर्स' के इस गांव में तैनात किए गए कमांडो, वायरस का नया केंद्र बनने की आशंका

तिरुवनंतपुरम के एक गांव में वायरस का नया केंद्र बनने का डर.

तिरुवनंतपुरम:

केरल के एक गांव में कोरोनावायरस के मामलों में आई तेजी के बाद इस गांव को खाली करके यहां पर 25 कमांडो को तैनात किया गया है. इस गांव में कई 'super-spreaders' की पहचान की गई है, यानी कि वायरस से संक्रमित ऐसे लोग जो छह से ज्यादा लोगों को संक्रमित कर देते हैं. स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने बताया है कि तिरुवनंतपुरम के पुंतुरा गांव में टेस्टिंग किए जाने के बाद यहां स्थानीय रूप से कोरोना के मामले बढ़े हैं. आशंका है कि यह केरल में पहला वायरस का क्लस्टर हो सकता है. क्लस्टर मतलब, जहां तेजी से वायरस फैलना शुरू हो जाए. 

बुधवार को कुछ वीडियो सामने आए हैं, जिसमें देखा जा सकता है कि पुंतुरा गांव में कमांडो, एंबुलेंस और पुलिस की गाड़ियां घूम रही हैं. वहीं लाउडस्पीकर से घोषणा की जा रही है कि 'अगर किसी को बिना किसी जरूरत के बाहर घूमते हुए देखा जाएगा तो उन्हें कमांडोज़ की मदद से एंबुलेंस में भरकर क्वारंटीन सेंटर पर ले जाया जाएगा.'

केरल में हेल्थ एक्सपर्ट और कोविड-19 से लड़ने वाली कोर टीम के सदस्य डॉक्टर मोहम्मद अशील ने NDTV से बताया कि 'सुपर स्प्रेडर उसे कहते हैं, जो छह से ज्यादा लोगों को संक्रमण फैलाता है. पुंतुरा में, ऐसा पहला क्लस्टर मिला है, जहां एक से ज्यादा सुपर-स्प्रेडर्स की पहचान की गई है.'

जिले में कोविड-19 कंटेंनमेंट के इंचार्ज अधिकारी ने NDTV को बताया कि 'टेस्टिंग के बाद सबसे पहले पॉजिटिव सामने आने वालों में से एक मछली का व्यापारी है, जो अकसर तमिलनाडु जाता था और वहां कुमारीचंदा के स्थानीय मार्केट में अपनी मछलियां बेचता था. जो लोग पॉजिटिव निकले हैं, उनकी कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग में पता चला है कि उनका इस मार्केट से कहीं न कहीं संबंध है. ये सभी पुंतुरा के निवासी हैं. वायरस का संक्रमण इलाके के कुछ वार्ड तक है.'

मुख्यमंत्री के ऑफिस से मिली जानकारी के मुताबिक, पुंतुरा में पिछले पांच दिनों में 600 लोगों की टेस्टिंग की गई है, जिसमें से 11 लोग संक्रमित मिले हैं. एक संक्रमित मछुआरे के संपर्क में आए हुए 120 लोगों को ट्रेस किया गया है, इसके साथ ही 150 अन्य संपर्कों को ट्रेस किया गया है.

केरल के मंत्री कडकमपल्ली सुरेंद्रन ने कहा कि इलाके में तेजी से टेस्टिंग कराई जा रही है. इसके लिए पर्याप्त संख्या में बेड उपलब्ध कराए गए हैं. जिनका संक्रमण सामने आ रहा है, उसे तुरंत अस्पताल ले जाया जा रहा है. संक्रमण कुछ वार्ड तक फैला है. फिलहाल इलाके में छह मेडिकल टीमें काम कर रही हैं, उपलब्धता बढ़ने पर इसे बढ़ा दिया जाएगा. 

मछुआरा बहुल इस इलाके में फिलहाल कोई तमिलनाडु से आना-जानां नहीं कर पाएगा. फिलहाल मछली मारने पर भी रोक लगा दी गई है. 10 जुलाई को इलाकों के घरों को सैनिटाइज़ करने की योजना है. इस गांव के प्रवेश और निकास द्वार को सील कर दिया गया है. तीन वार्ड में गांव के हर परिवार को पांच किलो चावल दिया जाएगा.

Newsbeep

बता दें कि इस मंगलवार को केरल में 301 नए मामले सामने आए थे. यह एक दिन में आए मामलों में यहां का सबसे ज्यादा नंबर है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: रेमडेसिविर को लेकर केंद्र सतर्क, राज्यों के ड्रग कंट्रोलर को लिखी चिट्ठी