NDTV Khabar

केरल में 'निपाह' से अब तक 16 लोगों की मौत, लोक सेवा आयोग की परीक्षाएं स्थगित 

केरल सरकार ने जानलेवा वायरस निपाह पर चौकसी बढ़ा दी है. लोक सेवा आयोग ने भी अपने सभी लिखित और ऑनलाइल परीक्षाएं 16 जून तक के लिए स्थगित कर दी हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
केरल में 'निपाह' से अब तक 16 लोगों की मौत, लोक सेवा आयोग की परीक्षाएं स्थगित 

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. केरल में निपाह वायरस का आतंक, अभी तक 16 लोगों की मौत
  2. लोक सेवा आयोग ने सभी लिखित-ऑनलाइल परीक्षाएं 16 जून तक के लिए टाली
  3. बालुसेरी के एक अस्पताल के कर्मचारियों को छुट्टी पर जाने को कहा गया
कोझिकोड (केरल): केरल सरकार ने जानलेवा वायरस निपाह पर चौकसी बढ़ा दी है. बालुसेरी के एक अस्पताल के कर्मचारियों को एहतियात के तौर पर छुट्टी पर जाने को कहा गया है. दूसरी तरफ, लोक सेवा आयोग ने भी अपने सभी लिखित और ऑनलाइन परीक्षाएं 16 जून तक के लिए स्थगित कर दी हैं.नयी तारीखों की घोषणाएं बाद में की जाएंगी.इसके अलावा दोनों जिलों में इस माह होने वाली सारी बैठकें स्थगित कर दी गईं हैं. लोगों से बेहद सतर्क रहने को कहा गया है.निपाह वायरस से कोझिकोड और मलप्पुरम जिले में 16 जानें जा चुकी हैं.एक अधिकारी ने कहा कि आज इसका कोई मामला सामने नहीं आया है लेकिन वायरस के लक्षण वाले छह लोगों को कोझिकोड मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है.कोझिकोड मेडिकल कॉलेज मे एक नियंत्रण कक्ष बनाया गया है जो कि लोगों से संपर्क कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेगा.निपाह वायरस से दो लोगों की मौत के बाद बालुसेरी स्थित एक अस्पताल में चार डॉक्टरों और नर्सों सहित कई कर्मचारियों को छुट्टी पर जाने के लिए कहा गया है.

यह भी पढ़ें : केरल में निपाह के डर से डॉक्टरों और नर्सों ने मांगी छुट्टी 

स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने कहा कि कोझिकोड और मलप्पुरम जिले में वायरस के दूसरे फेज में पहुंचने की आशंका के मद्देनजर सरकार ने एहतियाती कदम उठाए हैं और लोगों से सतर्क रहने के लिए कहा है. मंत्री की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल से विशेषज्ञों का दल स्थिति का आकलन कर रहा है और एहतियाती कदम उठा रहा है. केरल के उत्तरी जिलों में इस वायरस से अभी तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है.अधिकारी ने बताया कि अस्पताल के संचालन के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की गई है.रेसीन (25) का निधन कल निपाह वायरस के कारण हुआ. उसका इलाज पहले बालुसेरी अस्पताल में चल रहा था . उस समय निपाह वायरस की चपेट में आए निखिल नामक शख्स का इलाज वहां जारी था.सूत्र ने बताया कि कोझिकोड जिला कलेक्टर यू वी जोस निपाह वायरस के मद्देनजर जिले की मौजूदा स्थिति की एक रिपोर्ट केरल उच्च न्यायालय में दायर करेंगे.सूत्र ने बताया कि रिपोर्ट पूरी हो गई है.निपाह के कारण कोझिकोड जिला अदालत परिसर के एक अधीक्षक की मौत के कारण बार संघ ने कलेक्टर से कुछ समय के लिए जिला अदालत को बंद करने की अपील की है.

यह भी पढ़ें : केरल में निपाह वायरस का आतंक कायम, मरने वालों की संख्या 15 हुई

कोझिकोड और मलप्पुरम जिलों में निपाह वायरस के कारण एहतियाती तौर पर स्कूल नहीं खुले और वे पांच जून से शुरू होंगे.इस बीच, ‘निपाह अलर्ट’ के तहत राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों ने 14 मई को कोझिकोड मेडिकल कॉलेज, आपात सेवा, सीटी स्कैन रूम और प्रतीक्षा कक्ष आने वाले लोगों से तत्काल निपाह प्रकोष्ठ से संपर्क करने को कहा है.स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि 18 मई को बालुसेरी तालुक अस्पताल आने वाले लोगों से भी निपाह प्रकोष्ठ के संपर्क में रहने को कहा गया है.निपाह वायरस की जांच के लिए अभी तक 196 नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है जिनमें से 18 लोग इससे संक्रमित पाए गए.16 लोगों की इससे मौत हो चुकी है.

यह भी पढ़ें : कोलकाता में तैनात केरल के सैनिक की संदिग्ध निपाह वायरस से मौत 

टिप्पणियां
VIDEO: रणनीति : कैसे निपटें निपाह वायरस से?


(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement