NDTV Khabar

अस्पताल के बिस्तर पर पड़े केरल के छात्र ने कहा: मुझे सीनियर्स ने 3 घंटे तक पीटा

केरल के इडुक्की में टेक्नोलॉजी इंस्टिट्यूट के फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट को सीनियर्स द्वारा रैगिंग के तहत बुरी तरह से पीटे जाने का मामला सामने आया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अस्पताल के बिस्तर पर पड़े केरल के छात्र ने कहा: मुझे सीनियर्स ने 3 घंटे तक पीटा

छात्र हुआ रैगिंग का शिकार

खास बातें

  1. केरल में फिर आया रैगिंग का हैरान करने वाला मामला.
  2. छात्र ने आरोप लगाया कि सीनियर्स ने उसे तीन घंटे तक पीटा.
  3. फिलहाल आरोपी छात्र अस्पताल में भर्ती है.
केरल: केरल के इडुक्की में टेक्नोलॉजी इंस्टिट्यूट के फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट को सीनियर्स द्वारा रैगिंग का सनसनीखेज मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि फर्स्ट ईयर के एक स्टूडेंट को सीनियर्स ने रैगिंग के दौरान कथित तौर पर काफी बुरी तरह से पीटा, जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती होना पड़ा. अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि पीड़ित छात्र के पैर में कई जगह चोटें आईं हैं. हालांकि, सेकेंड ईयर के पांच स्टूडेंट्स पर शिकायत के बाद रैगिंग का मामला दर्ज किया गया है. 

CBSE स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा को लेकर 14 सालों में जारी हुए 11 सर्कुलर

23 साल के अतुल मोहन ने एनडीटीवी से कहा कि ' मुझे करीब तीन घंटे तक पीटा गया.' घटना को याद करते हुए उन्होंने बुधवार को कहा कि उन्हें कुछ सीनियर्स द्वारा डीसी स्कूल ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी के परिसर से बाहर निकलने के लिए मजबूर किया गया.

मध्यप्रदेश में रैगिंग से परेशान MBBS छात्र ने फांसी लगाकर जान दी

अतुल ने कहा, "उन लोगों ने मुझे एक हाथ में एक रॉड और एक सेलफोन पकड़ने के लिए कहा. फिर उन्होंने मेरे इस हाथ पर छड़ी से मारना शुरू कर दिया. साथ ही यह भी हिदायत दी कि न तो फोन और न ही रॉड हाथ से गिरना चाहिए. मगर लगातार छड़ी से पीटे जाने की वजह से मेरे हाथ से मोबाइल फोन गिर गया, तो उसके बाद उन लोगों ने और भी बुरी तरह से मुझे मारना शुरू कर दिया. 

उत्तर प्रदेश : BAMS छात्र ने रैगिंग से परेशान होकर खुदकुशी कर ली

हालांकि, अब कॉलेज के स्टूडेंट्स का आरोप है कि कैंपस में रैगिंग अब हर दिन की बात हो गई है. कईयों ने कहा कि रैगिंग की वजह से हम लोग होस्टल से निकलने से भी डर रहे हैं. 

22 जून को कॉलेज में पढ़ाई शुरू करने वाले मोहन ने कहा कि रैगिंग से बचने के लिये मैने सीनियर्स से झूठ भी बोला. मैंने उन्हें कहा की मुझे मोच आ गई है. लेकिन उन्हें किसी तरह पता चल गया कि मैं झूठ बोल रहा हूं और बुधवार की शाम में उन्होंने काफी बुरी तरह से मारा. 

रैगिंग को लेकर सरकार सख्त, कहा- हर महीने जमा हो रिपोर्ट

जब एनडीटीवी ने कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ शंकर राजीव से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि छात्र ने अपनी शिकायत वापस ले ली है. साथ ही उन्होंने स्वीकार किया कि यह एक गलती का नतीजा है. हालांकि, पीड़ित छात्र मोहन ने प्रिंसिपल के बातों से इत्तेफाक नहीं रखा. पुलिस ने भी पुष्टि की है कि शिकायत वापस नहीं ली गई है. 

टिप्पणियां
एक अन्य स्टूडेंट ने कहा कि हम यहां पढ़ने के लिए पैसे देते हैं, न की रैगिंग के लिए. हमने एंटी रैगिंग सेल से शिकायत की है. हम पर शिकायत वापस लेने के लिए दवाब बनाया जा रहा है. मगर हम ऐसा नहीं करेंगे. 

VIDEO: केरल के त्रिचुर में नौ छात्रों के साथ रैगिंग का मामला


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement