Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

खादी ग्रामोद्योग का फेब इंडिया को नोटिस, ट्रेडमार्क के इस्‍तेमाल को लेकर मांगा 525 करोड़ का हर्जाना

फेब इंडिया परिधान बेचने वाली प्रमुख श्रृंखला है. आयोग द्वारा भेजे गए कानूनी नोटिस के अनुसार, अगर कंपनी उसके ट्रेडमार्क जैसे नाम का प्रदर्शन बंद नहीं करती है तो फेब इंडिया ओवरसीज प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
खादी ग्रामोद्योग का फेब इंडिया को नोटिस, ट्रेडमार्क के इस्‍तेमाल को लेकर मांगा 525 करोड़ का हर्जाना

फेब इंडिया की फाइल फोटो

खास बातें

  1. ट्रेडमार्क ‘चरखा’ के अवैध रूप से इस्तेमाल का आरोप
  2. फेब इंडिया द्वारा अपने परिधान खादी ब्रांड से बेचे जाने पर भी आपत्ति
  3. फेब इंडिया परिधान बेचने वाली प्रमुख श्रृंखला है
नई दिल्ली:

खादी व ग्रामोद्योग आयोग ने फेब इंडिया को नोटिस जारी कर 525 करोड़ रुपये के हर्जाने की मांग की है. आयोग का फेब इंडिया पर आरोप है कि उसने उसके ट्रेडमार्क ‘चरखा’ का अवैध रूप से इस्तेमाल किया. इसके साथ ही आयोग को फेब इंडिया द्वारा अपने परिधान खादी ब्रांड से बेचे जाने पर भी आपत्ति है.

पीएम मोदी ने दिया 'खादी फॉर ट्रांसफॉरमेशन' का नारा, पढ़ें 'मन की बात' के 10 खास प्वाइंट

फेब इंडिया परिधान बेचने वाली प्रमुख श्रृंखला है. आयोग द्वारा भेजे गए कानूनी नोटिस के अनुसार, अगर कंपनी उसके ट्रेडमार्क जैसे नाम का प्रदर्शन बंद नहीं करती है तो फेब इंडिया ओवरसीज प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

फेब इंडिया के प्रवक्ता ने आयोग के दावे को ‘आधारहीन’ करार दिया और कहा अगर कोई कार्रवाई की जाती है तो कंपनी पूरी ताकत से अपना बचाव करेगी. आयोग ने अपने नोटिस में कंपनी से कहा है कि वह अपने कपड़ों व अन्य उत्पादों को बेचने के लिए चरखा या खादी मार्क का इस्तेमाल नहीं करें.


गिरिराज सिंह ने कहा था, रोजगार के लिये पांच करोड़ महिलाओं को दिये जायेंगे चरखे

आयोग ने कंपनी से इस मामले में बिना शर्त माफी मांगने को कहा है. इसके अनुसार, कंपनी यह लिखकर दे कि वह खादी या इससे जुड़े ऐसे कोई उत्पाद नहीं बेचेंगे जिन पर खादी ट्रेडमार्क हो. सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्यम मंत्रालय के अधीन आने वाले स्वायत्त निकाय खादी ग्रामोद्योग ने यह नोटिस 29 जनवरी को जारी किया और कंपनी को जवाब देने के लिए सात दिन का समय दिया. 

वहीं फेब इंडिया के प्रवक्ता ने कहा है, ‘हमें आयोग के वकीलों के मार्फत भेजा गया नोटिस मिला है. हमें इसकी विषयवस्तु पर हैरानी है. हम पिछले दो साल में अनेक बैठकों व संवाद के जरिए आयोग को स्पष्ट कर चुके हैं कि फेब इंडिया ने केवीआईसी कानून या उसके बाद बने किसी भी नियम का उल्लंघन नहीं किया है.’ प्रवक्ता ने कहा, ‘नोटिस में किए गए दावे आधारहीन हैं.’ (इनपुट भाषा से)

टिप्पणियां

VIDEO: खादी ग्रामोद्योग ने फैब इंडिया को भेजा नोटिस

 



दिल्ली चुनाव (Elections 2020) के LIVE चुनाव परिणाम, यानी Delhi Election Results 2020 (दिल्ली इलेक्शन रिजल्ट 2020) तथा Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... हैंडपंप पर पानी भर रही थी दलित महिला, पास खड़े रेंजर पर गिरे पानी के छींटे तो वनकर्मियों ने कर दी फायरिंग, एक की मौत, एक घायल

Advertisement