NDTV Khabar

राहुल बजाज के 'डर का माहौल' वाले बयान के बाद अब किरण मजूमदार शॉ बोलीं- सरकार को आलोचना पसंद नहीं

उद्योगपति राहुल बजाज (Rahul Bajaj) के 'डर का माहौल' संबंधी बयान के बाद अब उद्योगपति किरण मजूमदार शॉ (Kiran Mazumdar Shaw) ने बयान दिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राहुल बजाज के 'डर का माहौल' वाले बयान के बाद अब किरण मजूमदार शॉ बोलीं- सरकार को आलोचना पसंद नहीं

किरण मजूमदार शॉ

खास बातें

  1. उद्योगपति राहुल बजाज के बयान के बाद बोलीं किरण मजूमदार शॉ
  2. 'आलोचना को पसंद नहीं करती है सरकार'
  3. 'सरकार को सुझावों के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए'
नई दिल्ली:

उद्योगपति राहुल बजाज (Rahul Bajaj) के 'डर का माहौल' संबंधी बयान के बाद अब उद्योगपति किरण मजूमदार शॉ (Kiran Mazumdar Shaw) ने बयान दिया है. उन्होंने कहा, 'सरकार को सुझावों के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए, बजाए इसके कि वो केवल अपने समर्थकों की बात को ही सुने.' इससे पहले किरण मजूमदार शॉ ने ट्वीट भी किया था कि इंडिया इंक को अछूत समझ लिया गया है और सरकार आलोचना को पसंद नहीं करती है. बायोकॉन के चेयरमैन ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अमित शाह की सकारात्मक प्रतिक्रिया के बाद भाजपा के विभिन्न नेताओं के बयानों का अनुसरण करना पड़ा, जो सही नहीं हैं.

उद्योग जगत में भय के माहौल को लेकर राहुल बजाज के बयान पर राजनीति...

66 साल की शॉ ने एनडीटीवी से कहा, 'अभी आर्थिक मंदी है. जो संभव है, उसे देखने के लिए उन्हें कई आवाजों को और कई तिमाहियों का अनुसरण करना चाहिए. यदि वे केवल उन आवाजों को सुनते हैं जो उन्हें लगता है कि उनके समर्थक हैं और दूसरों को राष्ट्र-विरोधी या सरकार-विरोधी मानकर नहीं सुनना चाहते हैं, तो हम सभी सुझावों को प्राप्त नहीं करने जा रहे हैं.'  शॉ ने कहा, 'मुझे अभी भी विश्वास है कि वो हमारे साथ आर्म के विस्तार पर डीलिंग कर रहे हैं.'


शॉ ने राहुल बजाज को कॉरपोरेट इंडिया की एक मजबूत आवाज के रूप में परिभाषित किया और उन्होंने अमित शाह के जवाब को सरकार की तरफ से एक सही प्रतिक्रिया बताया. शॉ ने सवाल किया कि सरकार की आलोचना को राष्ट्र विरोधी और सरकार विरोधी की तरह क्यों देखा जाता है?

राहुल बजाज के उठाए सवाल के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा- 'सबकी सुनती है मोदी सरकार'

शॉ ने कहा, 'इंडिया इंक को राहत मिली कि मिस्टर बजाज ने सवाल किया. मुझे नहीं लगता कि किसी को मिस्टर बजाज पर हमला करना चाहिए. हमें अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करना चाहिए. इसे राजनीतिक प्रवचन नहीं बनाना चाहिए.' शॉ ने यह बयान बीजेपी आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय को संदर्भित करते हुए कही. दरअसल मालवीय ने मिस्टर बजाज का समर्थन करने पर एक राजनीतिक मकसद होने का आरोप लगाया था. जिस पर शॉ ने कहा, 'यह हास्यास्पद है. मैं यूपीए -2 की बेहद अराजनैतिक और आलोचनात्मक हूं.'

वहीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने संसद में उद्योगपति राहुल बजाज (Rahul Bajaj) के गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) से पूछे गए सवाल के संदर्भ में कहा कि मोदी सरकार आलोचनाओं को सुनती है और उसका जवाब देने के लिए हमेशा तैयार रहती है. निर्मला सीतारमण ने कहा कि यह कहना गलत है कि मोदी सरकार आलोचना नहीं सुनती है. कॉरपोरेट कर में कटौती से जुड़े संशोधन वाले 'कराधान विधि (संशोधन) विधेयक 2019' पर लोकसभा में चर्चा का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि यह सरकार आलोचना सुनती है और सकारात्मक ढंग से जवाब देती है तथा कदम भी उठाती है. 

टिप्पणियां

कांग्रेस ने राहुल बजाज के ‘डर का माहौल' बयान को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा, कहा- ...तो सबसे बुरा समय आ जायेगा

बता दें कि हालही में उद्योगपति राहुल बजाज ने कहा था कि लोग सरकार की निंदा करने में डरते हैं. बजाज के बयान पर गृह मंत्री अमित शाह ने प्रतिक्रिया भी दी थी. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement