कोझिकोड विमान हादसा: बचाव कार्य में लगे लोगों का सरकार कराएगी कोरोना टेस्ट

एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान 'वंदे भारत मिशन' के तहत दुबई से कालीकट लौट रहा था. विमान में कुल 190 लोग थे.

कोझिकोड विमान हादसा: बचाव कार्य में लगे लोगों का सरकार कराएगी कोरोना टेस्ट

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार सभी का कोविड टेस्ट कराएगी.

नई दिल्ली:

केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट (Kozhikode Airport) पर हुए विमान हादसे में अब तक 18 लोगों की मौत की खबर आ चुकी है, जबकि 15-20 लोग ऐसे ही जिनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है और अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. शुक्रवार रात को ये दुर्घटना उस वक्त हुई जब वंदेभारत मिशन के तहत दुबई से भारतीय यात्रियों को लेकर लौट रहा एयर इंडिया एक्सप्रेस  (Air India Express) का विमान अचानक रनवे से फिसल कर 35 फुट गहरी खाई में जा गिरा और विमान के दो टुकड़े हो गए. ऐसा बताया जा रहा है कि दुर्घटनास्थल पर राहत और बचाव कार्य समाप्त हो चुका है लेकिन कोरोनावायरस संकट (Coronavirus) के समय हुई इस दुर्घटना में बचान कार्य में लगे लोगों के लिए खतरा बढ़ा दिया है. राज्य सरकार ने कहा कि इस हादसे के दौरान राहत और बचाव कार्य करने वाले सभी लोगों का कोरोना टेस्ट किया जाएगा और उन्हें तब तक सेल्फ क्वारंटाइन में रहना चाहिए. 

केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने कहा, 'कोझिकोड एयरपोर्ट हादसे में राहत और बचाव कार्य में लगे सभी लोगों को सेल्फ क्वारंटाइन में जाना चाहिए. राज्य सरकार सभी का कोविड-19 टेस्ट करेगी.' 

एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान 'वंदे भारत मिशन' के तहत दुबई से कालीकट लौट रहा था. विमान में कुल 190 लोग थे. शुक्रवार शाम करीब 7:41 बजे लैंडिंग के वक्त विमान रनवे पर फिसल गया. कोझिकोड विमान हादसे में दोनों पायलटों समेत 18 लोगों की मौत हो गई. 24 लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है. घायलों का शहर के अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है. 

Newsbeep

यह भी पढ़ें- कोझिकोड : हादसे का शिकार हुए एयर इंडिया के प्लेन का ब्लैक बॉक्स मिला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कोझिकोड में हादसे का शिकार हुए एयर इंडिया एक्सप्रेस (Air India Express) प्लेन का ब्लैक बॉक्स मिल चुका है. DGCA अधिकारियों ने बताया कि विमान के मलबे से डिजिटल फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर (DFDR) बरामद कर लिया गया है. कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर के लिए फ्लोरबोर्ड को काटा जा रहा है. ब्लैक बॉक्स मिलने के बाद विमान हादसे की असल वजहों का पता चल सकेगा. हादसे के वक्त पायलटों के बीच हुई बातचीत से जांच टीम जान पाएगी कि घटना के वक्त आखिर क्या हुआ था.