NDTV Khabar

कुलभूषण जाधव को उसकी दया याचिकाओं पर सुनवाई पूरी होने तक फांसी नहीं दी जाएगी: पाकिस्‍तान

दरअसल, जाधव को पाकिस्तानी सैन्य अदालत द्वारा सुनाई गई मौत की सजा के खिलाफ भारत ने आईसीजे का रूख किया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कुलभूषण जाधव को उसकी दया याचिकाओं पर सुनवाई पूरी होने तक फांसी नहीं दी जाएगी: पाकिस्‍तान

कुलभूषण जाधव का फाइल फोटो...

खास बातें

  1. दया अर्ज़ियों से पहले जाधव को फांसी नहीं- पाकिस्‍तान
  2. पाकिस्‍तान बोला, पहले सभी दया याचिकाओं पर फ़ैसलेे का इंतजार किया जाएगा.
  3. बीते 18 मई को आईसीजे ने जाधव (46) की सजा के तामील पर रोक लगा दी थी.
नई दिल्‍ली:

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर रोक लगाए जाने के कुछ दिनों बाद पाकिस्तान ने गुरुवार को कहा कि भारतीय नागरिक को तब तक फांसी नहीं दी जाएगी, जबतक उसकी सभी दया याचिकाओं पर सुनवाई पूरी नहीं हो जाती.

विदेश विभाग के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने एक बयान जारी किया, जिसके बारे में उनका दावा है कि यह जाधव मामले में 18 जून के आईसीजे के फैसले के बाद भारतीय मीडिया में आए 'कुछ गलत बयानों,आरोपों' के जवाब में है.

जकारिया ने कहा कि आईसीजे के स्थगन के बावजूद जाधव तब तक जिंदा रहेगा, जब तक उसके दया के अधिकार के तहत की गई अंतिम याचिका पर फैसला नहीं आ जाता, जिसमें पहले चरण में सेना प्रमुख और बाद में पाकिस्तानी राष्ट्रपति के पास याचिका दायर करने का अधिकार है.

उन्होंने भारतीय सरकार पर आईसीजे में जाधव मामले को 'जीतने की गलत भ्रांति' फैलाने के लिए मीडिया के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि जाधव मामले में, 'सरकारी खेमों की मदद के साथ भारतीय मीडिया ने यह प्रचार कर दोनों देशों के लोगों को गुमराह किया कि भारत जाधव मामले में जीत गया है'. जकारिया ने कहा, 'दोनों देशों में जो चर्चा शुरू हुई है, उसमें पूरी तरह से मामले की समझ का अभाव दिखता है'.


दरअसल, जाधव को पाकिस्तानी सैन्य अदालत द्वारा सुनाई गई मौत की सजा के खिलाफ भारत ने आईसीजे का रूख किया था. बीते 18 मई को आईसीजे ने जाधव (46) की सजा के तामील पर रोक लगा दी थी.

उल्‍लेखनीय है कि कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्‍ट्रीय अदालत (आईसीजे) में पैरवी के लिए बुधवार को ही पाकिस्तान ने तदर्थ न्यायाधीश की नियुक्ति का फैसला किया है. एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट में कहा गया कि पाकिस्तान के महान्यायवादी (एजीपी) अशरफ आसफ अली संयुक्त राष्ट्र की सर्वोच्च अदालत में आठ जून को मामले की अगली सुनवाई के दौरान वकीलों के दल का नेतृत्व करेंगे. 

सूत्रों ने समाचार पत्र से कहा कि एजीपी ने कमेटी को सूचित किया है कि पाकिस्तानी आगामी सुनवाई के लिए अपने तदर्थ न्यायाधीश की नियुक्ति करेगा और आईसीजे में वकीलों का नेतृत्व वह खुद करेंगे. समाचार पत्र ने कहा कि नेशनल असेंबली के अध्यक्ष अयाज सादिक के नेतृत्व में मंगलवार को बंद कमरे में राष्ट्रीय सुरक्षा पर संसदीय समिति की बैठक में यह फैसला लिया गया.

टिप्पणियां

एजीपी ने आईसीजे में कुलभूषण जाधव मामले में प्रभावी ढंग से अपना पक्ष रखने के लिए पाकिस्तान द्वारा उठाए जा रहे कदमों से बैठक को संक्षिप्त रूप से अवगत कराया.

(इनपुट भाषा से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement