बेरोजगारी के ट्रेंड पर कुमार विश्वास ने दिया रिएक्शन, कहा- सोचिए उनके बारे में जो नौकरी का इंतजार कर रहे हैं...

कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के कारण जहां उद्योग-धंधे चौपट हो गए वहीं नौकरीपेशा लोगों के लिए यह महामारी विकराल संकट बनकर आई है. रोजगार छिन गए और बेरोजगारी बढ़ गई है. अब इसी मुद्दे पर कवि कुमार विश्वास ने अपनी बात रखी है.

बेरोजगारी के ट्रेंड पर कुमार विश्वास ने दिया रिएक्शन, कहा- सोचिए उनके बारे में जो नौकरी का इंतजार कर रहे हैं...

सोशल मीडिया पर देश में बढ़ रही बेरोजगारी को लेकर ट्रेंड कराया जा रहा है.

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के कारण जहां उद्योग-धंधे चौपट हो गए वहीं नौकरीपेशा लोगों के लिए यह महामारी विकराल संकट बनकर आई है. रोजगार छिन गए और बेरोजगारी बढ़ गई है. अब इसी मुद्दे पर कवि कुमार विश्वास ने अपनी बात रखी है. ट्विटर समेत सोशल मीडिया पर बेरोजगारी को लेकर कराए जा रहे ट्रेंड के बीच कुमार विश्वास ने लिखा, '''  जरा तो सोचिए उन बच्चों के बारे में दिल पर हाथ रखकर, कि जो बच्चे मेहनत से पढ़कर, प्रतियोगी परीक्षाएं पास करके भी, सरकारी काहिली के कारण वर्षों-वर्ष से अपनी नौकरी की प्रतीक्षा कर रहे हैं ! सोचिए कि उनके लिए जीवन कितना कष्टकर हो रहा होगा?  किसी भी दल-नेता के प्रति समर्पित रहो पर सरकारों से सरोकारों के सवाल तो पूछो ! सरकारें देश नहीं हैं यारों ! आनी-जानी हैं !'' 

एक रिपोर्ट के मुताबिक, सरकारी पोर्टल पर नौकरियों के लिए एक करोड़ से अधिक लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है, लेकिन सिर्फ 1.77 लाख नौकरियां ही उपलब्ध हैं. गौरतलब है कि जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने थे, उन्होंने देश के युवाओं से वायदा किया था कि वे दो करोड़ युवाओं को हर साल रोजगार दिलवाएंगे. लेकिन स्थिति यह है कि देश में 14 करोड़ लोग बेरोजगार हो गए हैं. 

यह भी पढ़ें: कोरोना ने छीनी नौकरी, संसद में उठी मांग- लॉकडाउन से बेरोजगार हुए लोगों को हर महीने मिले 15,000 रुपये

बता दें कि संसद के मानसून सत्र में भी कोरोना वायरस महामारी के कारण बड़े पैमाने पर लोगों के बेरोजगार होने और उनमें पैदा हो रही हताशा के कारण आत्महत्या की बढ़ती प्रवृत्ति का मुद्दा उठाया गया. कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के कारण अपनी आजीविका गंवाने वाले लोगों को हर महीने 15 हजार रूपये भत्ता देने का सरकार से अनुरोध किया गया. 

गौरतलब है कि लॉकडाउन के कारण करोड़ों लोगों की आजीविका प्रभावित हुई है और कई परिवार बिखर गए हैं. ऐसे में बच्चों की पढ़ाई-लिखाई तो दूर रही, वे भूखे सोने के लिए विवश हो गए हैं. महामारी के कारण लोगों में मानसिक तनाव और हताशा बढ़ती जा रही है. ऐसे में लोग आत्महत्या की ओर बढ़ रहे हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

स्थिति यह है कि रोजगार छिनने के कारण बड़ी संख्या में लोगों ने पीएफ निकासी का सहारा लिया. यही कारण है कि श्रम मंत्रालय के ताजा आकड़ों के मुताबिक अप्रैल से अगस्त 2020 के दौरान कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने 94.41 लाख पीएफ निकासी के आवेदनों का निपटारा किया. इन चार महीनों में 35445 करोड़ की राशि पीएफ धारकों ने निकाली. यह अप्रैल-अगस्त, 2019 के मुकाबले 32% ज्यादा है.

रवीश कुमार का प्राइम टाइम : नौकरी से हुए बेसहारा, पेंशन फंड का सहारा