NDTV Khabar

अरविंद केजरीवाल राष्ट्रीय संयोजक रहें, मैं भी पार्टी में रहूंगा : कुमार विश्वास

1.1K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अरविंद केजरीवाल राष्ट्रीय संयोजक रहें, मैं भी पार्टी में रहूंगा : कुमार विश्वास

कुमार विश्वास ने ईवीएम पर दोष डालने को गलत बताया

खास बातें

  1. विश्वास ने माना की हार के लिए ईवीएम को दोष देना ठीक नहीं है
  2. विश्वास ने पार्टी के भीतर की समस्याओं पर भी बात की
  3. विश्वास ने पंजाब और दिल्ली नगर निगम चुनाव में बंटे टिकट पर भी सवाल उठाये
नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉ कुमार विश्वास का कहना है कि पंजाब और दिल्ली चुनाव में पार्टी का हार के लिए EVM को दोष देना ठीक नहीं. यह खुद से मुंह चुराने जैसा होगा. NDTV इंडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा 'EVM में गंभीर गड़बड़ियां हैं, ये हम नही बोल रहे. ये सब तरफ पकड़ी गई हैं और सब राजनीतिक पार्टियां बोल रही हैं लेकिन ये कहना कि हम केवल EVM से हार गए ये अपने से मुंह चुराना होगा.'

कुमार विश्वास ने कहा कि - हम केवल EVM की वजह से नहीं हारे बल्कि गड़बड़ी हम में भी है. कुमार विश्वास ने विस्तार से पार्टी के भीतर की समस्या पर बात करते हुए कहा है 'ज़मीन में मुंह देने से सेहरा में तूफान खत्म नहीं हो जाता. पार्टी के कार्यकर्ता को बहुत दुख होता है जब हम कुछ लोग मिलकर बात करके फैसले कर लेते हैं और कार्यकर्ता को संज्ञान में भी नहीं लेते. किसी फैसले पर स्पष्टीकरण नहीं देते, मौन हो जाते हैं. ये गलतियां हमसे पिछले दो साल में हुई है और हमको ये सुधारनी होंगी.'

कुमार विश्वास ने लगातार बीजेपी में जाने की खबरों बीच साफ कर दिया है कि वो आम आदमी पार्टी छोड़कर जाने की सोच भी नहीं रहे. कुमार ने कहा कि "मैं क्यों पार्टी छोड़कर जाऊंगा? ये पार्टी मेरी है और ये मेरे घर से पार्टी बनी है इसलिये मेरे कहीं जाने का सवाल ही नहीं उठता."

लगातार चुनाव में मिल रही हार के बाद चर्चा चलने लगी है कि क्या अरविंद केजरीवाल को राष्ट्रीय संयोजक का पद छोड़कर दिल्ली सरकार पर ध्यान देना चाहिए. इस पर कुमार ने कहा कि "अरविंद राष्ट्रीय संयोजक बने रहने चाहिए, उनके नेतृत्व पर किसी को कोई शंका नहीं है. ऐसा नहीं होता कि एक चुनाव हार गए तो आप लीडर बदल लेंगे, आज हारें है तो कल जीते भी थे."

वैसे पार्टी में संजय सिंह, आशीष तलवार, दिलीप पांडेय और दुर्गेश पाठक के इस्तीफे पर कुमार विश्वास ने कहा कि "इस्तीफ़े देने से स्थिति नही बदल जात। क्योंकि आज ये लोग कुछ कर रहे हैं तो कल ये ही लोग कुछ और करेंगे. इससे कुछ नही बदलेगा, ज़रूरत है संगठन, रणनीति, संवाद में बदलाव करने की जिससे हम अपने कार्यकर्ता और जनता को वही लोग दिखाई दें जो जंतर मंतर से करप्शन के खिलाफ लड़ने चले थे.'

विश्वास ने पंजाब और दिल्ली नगर निगम चुनाव में बंटे टिकट पर भी सवाल उठाये और कहा कि कहीं ना कहीं हमसे गलती हुई. उन्होंने भविष्य के लिए पार्टी में व्यापक बदलाव की ज़रूरत पर बल दिया और कहा कि पार्टी में संगठन, संवाद, और रणनीति में बदलाव की ज़रूरत है. ऐसा नहीं होना चाहिए कि हम लोग TV डिबेट में जाकर गलत बातों का बचाव करते दिखें.

आम आदमी पार्टी नेता कुमार विश्वास ने अपनी नाराजगी और पार्टी नेताओं में मतभेद के बीच पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं से माफी मांगते हुए कहा है कि 'मैं उन सब कार्यकर्ताओं से माफी मांगता हूं जिनको हमारी वजह से कष्ट हुआ और गर्व का मौका नहीं मिला. नेतृत्व हमें ही ने किया न? उनकी मेहनत में कोई कमी नहीं है और मेरी पूरी कोशिश रहेगी कि मैं उनको जोड़ूं और जंतर मंतर के आंदोलन की उस आग को दोबारा पार्टी के साथ लाकर खड़ा करूं.'

टिप्पणियां
कुमार विश्वास जानते हैं कि आम आदमी पार्टी में कार्यकर्ता कितनी बाद ताक़त है इसलिए उन्होंने कहा कि कुछ टिकट हमने ऐसे दिए जहां कार्यकर्ता आक्रोश में था. उनकी नाराज़गी थी. पंजाब और दिल्ली में कहां कहां टिकट गलत हुए इसको लेकर हम गंभीर हैं और जांच करवा रहे हैं.

विश्वास ने कहा 'बीते दो साल में हम कई बार पटरी से उतरे और फिर चढ़े. कई बार हम भटके. हमें ये याद रखना होगा कि हम चले कहां से थे और क्या करने चले थे. हम करप्शन विरोधी थे, हम कांग्रेस विरोधी थे, हम मोदी विरोधी थे या हम EVM विरोधी थे?' कुमार विश्वास ने कहा कि बीते दो साल के अंदर जिस परसेप्शन के साथ हम राजनीति में आये वो अब टूट रहा है/ अगर हम लोगों का विश्वास अर्जित नहीं कर पाए तो सीधी बात हैं हम संवाद नहीं कर पाए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement