NDTV Khabar

अलीगढ़ मासूम हत्या मामले पर भड़के कुमार विश्वास, ट्विटर पर लिखा-अगर दंड न दिलवा पाते हैं तो...

अलीगढ़ (Aligarh) में मासूम के साथ हुई हैवानियत से पूरा देश सकते में हैं. इस जघन्य घटना के बाद देश के कई हिस्सों में मासूम को न्याय दिलाने और आरोपियों को सजा की मांग की जा रही है. इसी कड़ी में कुमार विश्वास ने भी अपनी आवाज बुलंद की है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अलीगढ़ मासूम हत्या मामले पर भड़के कुमार विश्वास, ट्विटर पर लिखा-अगर दंड न दिलवा पाते हैं तो...

कुमार विश्वास (Kumar Vishwas) ने अलीगढ़ (Aligarh) केस पर जाहिर किया गुस्सा

खास बातें

  1. अलीगढ़ घटना पर कुमार विश्वास ने जताई नाराजगी
  2. ट्विटर पर जाहिर किया गुस्सा
  3. लिखा- सजा न दिलवा पाए तो हम पर शर्म है
नई दिल्ली:

अलीगढ़ (Aligarh) में मासूम के साथ हुई हैवानियत से पूरा देश सकते में हैं. इस हैरान कर देने वाली घटना के बाद देश के कई हिस्सों में मासूम को न्याय दिलाने और आरोपियों को सजा की मांग की जा रही है. इसी कड़ी में कुमार विश्वास (Kumar Vishwas) ने भी अपनी आवाज बुलंद की है. कुमार विश्वास (Kumar Vishwas) ने ट्विटर हैंडल के जरिए इस घटना पर आक्रोश जताते हुए लिखा है कि कल्पना से परे है कि हैवानियत इतनी ज़्यादा क्रूर कब हो गई कि ढाई साल की मासूमियत को इस सब से गुज़ार दे. कुमार (Kumar Vishwas) ने लिखा कि सजा की कोई भी सीमा मनुष्यता के इस लहू का घाव नहीं भर सकती, लेकिन यदि हम अतिशीघ्र अपराधियों को अनुकूल दंड नहीं दिलवा पाते हैं, तो शर्म है हमारे होने पर.  

बिहार के 7 जिलों में नहीं शुरू हुई गेंहू की सरकारी खरीद, किसानों को लूट रहे बिचौलिए

t328alig

गोवा एयरपोर्ट के पास फाइटर प्लेन के ईंधन की टंकी गिरी, विमानों की आवाजाही कुछ देर के लिए रोकी गई

अलीगढ़ में मासूम की हत्या के मामले (Aligarh Minor Murder Case) में एक और सच सामने आया है. जानकारी मिली है कि इस कांड के एक आरोपी ने पांच साल पहले अपनी बेटी के साथ रेप किया था और उसकी पत्नी ने उसकी जमानत को लेकर छुड़वाया था. पुलिस ने यह जानकारी एनडीटीवी को बताई है. इस शख्स ने जाहिद नाम के एक दूसरे आरोपी के साथ मिलकर बीती 30 मई को ढाई साल की मासूम की बेरहमी से हत्या कर दी थी. मामला सिर्फ इतना था कि इन दोनों का मासूम के दादा के साथ कर्ज के बकाए को लेकर झगड़ा चल रहा था. रविवार को इलाके के लोगों ने कुछ कुत्तों को किसी मानव शरीर को घसीटते देखा तो उन्हें आशंका हुई और पुलिस को जानकारी दी गई. जांच में पता चला कि यह उसी मासूम का शव था जो 30 मई से गायब हुई थी. घटना सामने आने के बाद पूरे देश में गुस्से की लहर दौड़ गई और सोशल मीडिया में इस मामले की जोर शोर से चर्चा होने लगी. हर कोई आरोपियों को कड़ी सजा देने की मांग कर रहा है. 

टिप्पणियां

हिरासत शिविर से बाहर आये सेना के पूर्व अधिकारी मोहम्मद सनाउल्लाह, शुक्रवार को मिली थी जमानत

दोनों आरोपियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत मामला दर्ज कर मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में स्थानांतरित करवाने का फैसला लिया है. सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि यह निर्णय योगी आदित्यनाथ की सरकार द्वारा लिया गया है. एक आरोपी ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अलीगढ़ आकाश कुलहरि ने कहा, "हम इसे राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के मामले के रूप में आगे बढ़ा रहे हैं, हम इसे एक फास्ट ट्रैक कोर्ट में लाने की कोशिश करेंगे. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में दुष्कर्म या एसिड हमले का जिक्र नहीं है. इस मामले में पांच पुलिस अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है."
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement