लद्दाख में भारत-चीन का टकराव, सैटेलाइट मैप के जरिए समझिए पूरा घटनाक्रम

भारतीय सैनिकों ने वहां शवों और हताहतों को ले जाने के लिए चीनी एंबुलेंसों को देखा. वहां हेलीकॉप्टर उन्हें अन्य स्थानों पर ले जा रहा था.

लद्दाख में भारत-चीन का टकराव, सैटेलाइट मैप के जरिए समझिए पूरा घटनाक्रम

नई दिल्ली:

पूर्वी लद्दाख में गालवान घाटी से ली गई सैटेलाइट तस्वीरें दिखाती हैं कि निर्माण के दिनों के बाद भारत और चीन के बीच
टकराव कैसे हुआ. जिस स्थान पर भारत और चीन सैनिकों के बीच टकराव हुआ उस इलाके को पीपी-14 और पेट्रोलिंग प्वाइंट 14 कहा जाता है. जो कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) से 14 किलोमीटर की दूरी पर है. 

समाचार एजेंसी रॉयटर्स द्वारा जारी की गई सैटलाइट तस्वीरें मंगलवार की हैं. इन तस्वीरों में एलएसी में चीन की तरफ बड़ी संख्या में निर्माण कार्य होता दिखाई दे रहै. इस क्षेत्र के सैनिकों की संभावना गॉलवान घाटी में भारत के क्षेत्रों तक बढ़ जाती है, जहां 15 हजार फुट की ऊंचाई पर सोमवार को सैंकड़ों सैनिक आपस में भिड़ गए थे. भारतीय सैनिकों पर लोहे की छड़ों से हमला किया गया था, दोपहर में शुरू हुई लड़ाई में कंटीले तारों और कील-जड़ी क्लबों में लिपटे हुए पत्थर आधी रात तक चलते रहे.

सैटेलाइट मैप्स गैलवान नदी के माध्यम से समझाया गया कि लद्दाख में भारत और चीनी सेना के बीच हुई झड़प में सैनिकों ऊंची चोटी से नीचें फेंक दिया गया.भारतीय सैनिकों ने वहां शवों और हताहतों को ले जाने के लिए चीनी एंबुलेंसों को देखा. वहां हेलीकॉप्टर उन्हें अन्य स्थानों पर ले जा रहा था.

इस क्षेत्र में 1962 में भी हिंसक झड़पें हुईं, जब भारतीय चौकियां खत्म हो गईं. लेकिन पाँच दशकों में, न तो कोई हिंसा हुई और न ही कोई सक्रिय चीनी उपस्थिति. ऐसा माना जाता है कि चीनी भारत की नई सड़क को निशाना बनाना चाह रहे थे, जो दौलत बेग ओल्डी को दक्षिण में दारबुक से जोड़ती है.

कर्नल सहित 20 भारतीय सैनिक सोमवार को ड्यूटी के दौरान मारे गए थे. प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने लद्दाख में हुई हिंसा पर अपनी पहली टिप्पणी में कहा, उनका बलिदान व्यर्थ नहीं होगा, इसके साथ उन्होंने चेतावनी देत हुए कहा कि भारत "उकसाने पर उचित जवाब देने में सक्षम है". सेना के सूत्रों ने बताया कि लगभग 45 चीनी सैनिक भी मारे गए या घायल हो गए.

Newsbeep

....वो इलाक जहां भारत-चीन सेना के बीच हुई हिंसक झड़पVideo

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com