NDTV Khabar

चारा घोटाले में लालू यादव ने सीबीआई की विशेष अदालत में गवाही दर्ज नहीं कराई

अदालत से कहा- हाई कोर्ट से अदालत बदलने का अनुरोध किया है, लिहाजा उसके फैसले का इंतजार किया जाए

550 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
चारा घोटाले में लालू यादव ने सीबीआई की विशेष अदालत में गवाही दर्ज नहीं कराई

लालू यादव ने रांची में सीबीआई की विशेष अदालत में अपने गवाहों की गवाही कराने से इनकार कर दिया.

खास बातें

  1. देवघर कोषागार से अवैध निकासी के मामले से जुड़ा चारा घोटाला
  2. इस अदालत पर भरोसा नहीं, प्रकरण को स्थानांतिरत करने का अनुरोध
  3. कहा- विशेष अदालत के न्यायाधीश का व्यवहार उचित नहीं
रांची: राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने चारा घोटाले से जुड़े देवघर कोषागार से घपला कर अवैध धन निकासी के मामले में आज यहां सीबीआई की विशेष अदालत में यह कहकर अपने गवाहों की गवाही कराने से इनकार कर दिया कि उन्होंने उच्च न्यायालय से अदालत बदलने का अनुरोध किया है, लिहाजा उसके फैसले का इंतजार किया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें : लालू यादव की लगातार दूसरे दिन सीबीआई अदालत में पेशी

लालू प्रसाद यादव के अधिवक्ता प्रभात कुमार ने बताया कि आरजेडी सुप्रीमो की आज सुबह देवघर कोषागार से अवैध निकासी के मामले से जुड़े चारा घोटाले मामले में सीबीआई के विशेष न्यायाधीश शिवपाल सिंह की अदालत में पेशी हुई. अदालत में लालू प्रसाद ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि उन्होंने उच्च न्यायालय में आवेदन दायर कर इस अदालत में भरोसा नहीं होने की बात कहते हुए इस प्रकरण को स्थानांतिरत करने का अनुरोध किया है. अत: इस मामले में उच्च न्यायालय का फैसला आने तक उन्हें अपने गवाहों की गवाही नहीं कराने की अनुमति दी जाए.

यह भी पढ़ें : चारा घोटाला मामला : लालू, जगन्नाथ मिश्रा सीबीआई अदालत में पेश

अदालत ने लालू प्रसाद यादव को अपने इस नए आवेदन पर सुनवाई के लिए दोपहर बाद 2:00 बजे पेश होने का निर्देश दिया. प्रभात कुमार ने बताया कि अदालत बदलने संबंधी याचिका झारखंड उच्च न्यायालय में दायर की गई है जिस पर कल या 18 अगस्त को सुनवाई होने की संभावना है.

VIDEO : लालू यादव की पेशी


लालू प्रसाद यादव ने उच्च न्यायालय में दाखिल अपनी याचिका में कहा है कि विशेष अदालत के न्यायाधीश शिवपाल सिंह का व्यवहार उनके और उनके गवाहों के साथ उचित नहीं है और वह उनके खिलाफ पूर्वाग्रह से ग्रस्त हैं. लिहाजा उनके मामले को किसी अन्य अदालत में स्थानांतरित कर दिया जाए जिससे उनके साथ न्याय हो सके.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement