NDTV Khabar

लालू यादव और राबड़ी को झटका, अब पटना एयरपोर्ट पर सीधे विमान तक नहीं जाएगी उनकी गाड़ी

अधिकारियों के अनुसार, लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी को पटना एयरपोर्ट पर सीधे वाहन के जरिये हवाई पट्टी पर विमान तक जाने की मिली सुविधा को खत्‍म कर दिया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लालू यादव और राबड़ी को झटका, अब पटना एयरपोर्ट पर सीधे विमान तक नहीं जाएगी उनकी गाड़ी

राजद प्रमुख लालू प्रसाद का फाइल फोटो...

खास बातें

  1. केंद्र ने पटना एयरपोर्ट पर दोनों को मिली विशेष सुविधा को समाप्‍त किया.
  2. 2009 में दी गई इस अनुमति को रद्द करने का फैसला लिया गया- अधिकारी
  3. BCAS को आवश्यक निर्देश जारी करके तत्काल कदम उठाने के लिए कहा गया.
नई दिल्‍ली/पटना:

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनकी पत्‍नी राबड़ी देवी को शनिवार को करारा झटका मिला. केंद्र सरकार ने राज्‍य के दोनों पूर्व मुख्‍यमंत्रियों को पटना एयरपोर्ट पर मिली विशेष सुविधा को समाप्‍त कर दिया है.

अधिकारियों के अनुसार, लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी को पटना एयरपोर्ट पर सीधे वाहन के जरिये हवाई पट्टी पर विमान तक जाने की मिली सुविधा को खत्‍म कर दिया गया है. इस तरह लालू प्रसाद और उनकी पत्नी राबड़ी देवी अब अपने वाहन से पटना हवाई अड्डे पर सीधे विमान तक नहीं पहुच सकेंगे, क्योंकि केन्द्र सरकार ने उनके वाहन के सीधे विमान तक पहुंचने की इजाजत को वापस ले लिया है. 

हालांकि केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और पटना साहिब से भाजपा सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा के वाहन को रन-वे तक जाने की अनुमति होगी.


ये भी पढ़ें...
हम मिट्टी में मिल जाएंगे लेकिन मोदी सरकार को हटा के दम लेंगे - लालू यादव

नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, "पिछला आदेश (अनुमति का उपयोग) पटना हवाई अड्डे पर प्रवेश के लिए ही था, जिसे वापस ले लिया गया है".

ये भी पढ़ें...
CBI ने लालू यादव और परिवार के सदस्‍यों पर भ्रष्‍टाचार का मामला दर्ज किया

यह कदम उस समय सामने आया, जब नागर विमानन मंत्रालय ने नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो को पत्र लिखकर यह जानकारी दी थी कि उसने 2009 में दी गई उस अनुमति को रद्द करने का फैसला किया था, जिसमें लालू यादव और उनकी पत्नी को वाहन से हवाई पट्टी तक जाने की सुविधा दी गई थी. 

21 जुलाई को लिखे गए पत्र में बीसीएएस को मंत्रालय के निर्णय को लागू करने के लिए आवश्यक निर्देश जारी कर तत्काल कदम उठाने के लिए कहा गया है.

इस आदेश के बाद राजद इसे केंद्र सरकार की बदले की कार्रवाई बता रहा है. राजद के प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि केंद्र सरकार बदले की भावना के तहत विपक्षी दलों को प्रताड़ित कर रही है. इसी कड़ी के तहत लालू प्रसाद के साथ भी ऐसा किया गया है.

उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद अत्यधिक सुरक्षा में रहने वाले नेता हैं, ऐसे में केंद्र सरकार द्वारा ऐसा आदेश देना कहीं से भी उचित नहीं है.

वहीं, भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने इसे नियम के तहत बताया है. उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद भ्रष्टाचार के मामले में अदालत द्वारा सजायाफ्ता हैं, और ऐसे में केंद्र सरकार का यह सही कदम है. उन्होंने कहा कि अगर पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी को यह सुविधा मिलती थी, तो पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को भी मिलनी चाहिए.

टिप्पणियां

(इनपुट एजेंसियों से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement