भूमि अधिग्रहण का मामला: विधायक ने किसानों के समर्थन में अर्धनग्न होकर शीर्षासन करके विरोध जताया

मध्यप्रदेश के श्योपुर जिले में केंद्र सरकार के अटल एक्सप्रेस वे प्रोजेक्ट में जारी भूमि अधिग्रहण को लेकर किसानों और प्रशासन के बीच टकराव बढ़ता जा रहा

भूमि अधिग्रहण का मामला: विधायक ने किसानों के समर्थन में अर्धनग्न होकर शीर्षासन करके विरोध जताया

श्योपुर में किसानों के समर्थन में शीर्षासन करके विरोध प्रदर्शन करते हुए विधायक बाबू जंडेल.

भोपाल:

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के श्योपुर में केंद्र सरकार के अटल एक्सप्रेस वे प्रोजेक्ट (Atal Expressway Project) में जारी भूमि अधिग्रहण (Land acquisition) को लेकर किसानों और प्रशासन में टकराव बढ़ता नज़र आ रहा है. भूमि अधिग्रहण में भूमि के बजाय चार गुना मुआवजे की मांग को लेकर किसानों के प्रदर्शन के दौरान आज हालात उस वक्त बेकाबू हो गए जब डीएम दफ्तर पर प्रदर्शन कर ज्ञापन सौपने पहुंचे किसानों के बीच डीएम ने आने में देरी कर दी. स्थानीय कांग्रेस एमएलए के नेतृत्व में पहुंचे किसानों ने डीएम दफ्तर पर डेरा डालकर अर्धनग्न प्रदर्शन कर प्रशासन और शासन के खिलाफ आक्रोश जाहिर किया. कांग्रेस एमएलए ने अर्धनग्न होकर सरकार के खिलाफ शीर्षासन भी कर डाला. करीब 3 घंटे तक चले हंगामे के बाद किसान कलेक्ट्रेट पर ज्ञापन चस्पा करके लौट आए. उन्होंने जाते हुए बड़े उग्र आंदोलन की चेतावनी भी दे डाली.

श्योपुर जिले में अटल चंबल एक्सप्रेस वे के लिए शुरू हुआ भूमि अधिग्रहण कार्य अब किसान और प्रशासन के बीच टकराव की वजह बन गया है. किसान भूमि के बदले चार गुने मुआवजे की मांग कर सड़कों पर उतर आए हैं. आज एकत्रित हुए सैकड़ों किसान पैदल मार्च करके कलेक्ट्रेट पहुंचे. 

किसान डीएम को ज्ञापन सौंपना चाहते थे जिस पर मामला बिगड़ गया. किसान डीएम को ही ज्ञापन सौंपने पर अड़े थे और डीएम वहां दो घंटे तक नही आए. इस पर भड़के किसानों ने कलेक्ट्रेट पर डेरा जमाकर देखते ही देखते उग्र प्रदर्शन शुरू कर दिया. किसानों ने कांग्रेस विधायक बाबू जंडेल की अगुवाई में अर्धनग्न प्रदर्शन किया. विधायक ने इससे एक कदम आगे बढ़कर सरकार के खिलाफ सिर के बल खड़े होकर शीर्षासन करके विरोध जताया.

मध्यप्रदेश में बीमे की रकम प्राप्त करने के लिए बैंक के लाइन में खड़े किसान की मौत

qne35qr8

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

 

करीब तान घंटे तक यह विरोध प्रदर्शन चलता रहा. इस दौरामन कई बार अफसरों ने किसानों को मनाने का प्रयास भी किया लेकिन वे नहीं माने. बाद में वे कलेक्ट्रेट के खंभे पर ज्ञापन चस्पा करके लौट गए. किसानों का कहना है कि यदि हमारी मांग नहीं मानी गई तो अब बड़ा आंदोलन किया जाएगा. प्रदर्शन में शामिल कांग्रेस एमएलए ने जहां कलेक्टर पर असंवेदनशील होने का आरोप लगाया वहीं सरकार पर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया. विधायक का कहना है कि किसानों की आरपार की लड़ाई लड़ी जाएगी.