NDTV Khabar

पश्चिम बंगाल उपचुनाव में जीती तृणमूल, लेकिन वामदलों की चिंता है बीजेपी का दूसरे नंबर पर आना...

159 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पश्चिम बंगाल उपचुनाव में जीती तृणमूल, लेकिन वामदलों की चिंता है बीजेपी का दूसरे नंबर पर आना...

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने वोटरों को 'विशेष धन्यवाद' दिया, क्योंकि उन्होंने पश्चिम बंगाल में बीजेपी को 'प्रमुख विपक्षी दल' बना दिया है...

कोलकाता: गुरुवार को घोषित उपचुनाव परिणामों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने आठ राज्यों की कुल 10 विधानसभा सीटों में से पांच पर जीत हासिल की है, लेकिन पश्चिम बंगाल की एक सीट ऐसी है, जहां पार्टी दूसरे नंबर पर रहकर भी बेहद खुश है... कांठी दक्षिण विधानसभा सीट के नतीजे घोषित होने के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने वोटरों को 'विशेष धन्यवाद' दिया, क्योंकि उन्होंने राज्य में बीजेपी को 'प्रमुख विपक्षी दल' बना दिया है...

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस ने कांठी दक्षिण सीट पर कब्ज़ा बरकरार रखा, और अपने प्रतिद्वंद्वियों को करारी शिकस्त दी, लेकिन इस नतीजे में तीसरे स्थान पर खिसक गए वामदलों के लिए सबसे बड़ी चिंता यह बन गई है कि सत्तासीन पार्टी को चुनौती देने में बीजेपी उनसे कहीं आगे निकल गई है... तीन दशक से भी अधिक समय तक राज्य की सत्ता पर एकछ्त्र राज करने वाले वामदलों को वर्ष 2011 में पहली बार ममता बनर्जी ने सत्ताच्युत किया था, और अब कांठी दक्षिण सीट पर बीजेपी के उम्मीदवार को भी वाम प्रत्याशी की तुलना में 30,000 वोट ज़्यादा मिले हैं...

विजयी तृणमूल कांग्रेस ने राज्य में बीजेपी के बढ़ते प्रभाव को खारिज करते हुए कहा कि इससे सिर्फ वामदलों को नुकसान हुआ है... मुकुल रॉय का कहना था, "हम यहां पहले स्थान पर हैं, और पहले और दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवारों में इतना अंतर है कि इस बात से कई फर्क नहीं पड़ता कि कौन दूसरे स्थान पर रहा, और कौन तीसरे स्थान पर..." इस सीट पर पूर्व स्वास्थ्य मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य को लगभग 50,000 वोटों के अंतर से जीत हासिल हुई है...

कुछ साल पहले तक पश्चिम बंगाल में बीजेपी की लगभग कोई पैठ नहीं थी, लेकिन वर्ष 2014 के आम चुनाव से पहले अमित शाह ने कैडर बिल्डिंग एक्सरसाइज़ शुरू की थी, जिसका नतीजा उसी साल चुनाव परिणामों में नज़र भी आया... बीजेपी ने राज्य में दो लोकसभा सीटों पर जीत हासिल की, और उनका वोट प्रतिशत चार फीसदी से बढ़कर 17 फीसदी तक पहुंच गया... इसके बाद पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी ने चार सीटें जीतीं, जो राज्य के इतिहास में बीजेपी का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा...

कांठी दक्षिण सीट पिछले साल उस समय रिक्त हुई थी, जब तृणमूल कांग्रेस के दिब्येंदु अधिकारी तामलुक सीट से लोकसभा के लिए चुन लिए गए थे...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement