दिल्‍ली और हरियाणा के कुछ हिस्‍सों में बारिश से राहत, तापमान में आई गिरावट..

Delhi weather: दिल्ली में चिलचिलाती गर्मी के बाद पिछले कुछ दिनों से हुई बारिश ने लोगों को राहत दी. तेज हवाओं ने भी तापमान को नीचे लाने में भी मदद की . आसमान पर काले बादल छाए रहे और दिल्ली में गरज और तेज़ हवाओं के साथ धूल भरी हवाएँ चलीं. यह जल्द ही हल्‍की बारिश का दौर शुरू हो गया. सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इसके फोटो और वीडियो पोस्ट किए हैं.

दिल्‍ली और हरियाणा के कुछ हिस्‍सों में बारिश से राहत, तापमान में आई गिरावट..

Delhi weather Update: हल्‍की बारिश से देश की राजधानी दिल्‍ली का मौसम सुहाना हो गया (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

Rain in Delhi: देश की राजधानी दिल्ली और आसपास के कई इलाकों में आज शाम को हल्की बारिश (Rain) हुई और तापमान में गिरावट आई. मौसम विभाग ने दिल्ली, गुरुग्राम, फरीदाबाद और हरियाणा के कई हिस्सों में आंधी और बारिश की भविष्यवाणी की थी. मौसम विभाग (IMD) ने एक ट्वीट में कहा था कि अगले दो घंटों के दौरान दिल्ली के आसपास के क्षेत्रों में बारिश और हवा की गति 20-40 किमी प्रति घंटा के साथ गरज के साथ बारिश होगी. दिल्ली में चिलचिलाती गर्मी के बाद पिछले कुछ दिनों से हुई बारिश ने लोगों को राहत दी. तेज हवाओं ने भी तापमान को नीचे लाने में भी मदद की . आसमान पर काले बादल छाए रहे और दिल्ली में गरज और तेज़ हवाओं के साथ धूल भरी हवाएँ चलीं. यह जल्द ही हल्‍की बारिश का दौर शुरू हो गया. सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इसके फोटो और वीडियो पोस्ट किए हैं.

इस बीच, मौसम विभाग ने कहा है कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती प्रवाह बनने की संभावना और मॉनसून में प्रगति होने के कारण अगले सप्ताह से मध्य और दक्षिण भारत में वर्षा के जोर पकड़ सकती है. मौसम विभाग (IMD) के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि अगले सप्ताह बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनने और ओडिशा की ओर इसके बढ़ने की संभावना है. कम दबाव एक प्रकार का चक्रवाती प्रवाह होता है और किसी चक्रवात का पहला चरण होता है. हालांकि यह जरूरी नहीं है कि कम दबाव का हर क्षेत्र तेज होकर चक्रवात बन जाए. मॉनसून ने एक जून को केरल में दस्तक दी थी. आमतौर पर इसी दिन मॉनसून दस्तक देता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मौसम विभाग ने पूर्व में अनुमान लगाया था कि मॉनसून में चार दिन की देरी होगी लेकिन चक्रवात निसर्ग ने मॉनसून को तय समय पर केरल पहुंचने में मदद की. मौसम विभाग ने कहा, ‘‘अरब सागर, कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल, बंगाल की खाड़ी के समस्त दक्षिणी-पूर्वी और पश्चिमी मध्य के कुछ हिस्सों में अगले दो दिनों के दौरान दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियां हैं.''मौसम विभाग के मुताबिक, एक जून से देश में सामान्य की तुलना में नौ प्रतिशत अधिक बारिश हुई है.

वीडियो: तूफान के चले जाने के बाद भी मुंबई में तेज बारिश