पाकिस्तान द्वारा परमाणु हथियारों के हमले का खतरा बढ़ा : पूर्व विदेश सचिव शिवशंकर मेनन

पाकिस्तान द्वारा परमाणु हथियारों के हमले का खतरा बढ़ा : पूर्व विदेश सचिव शिवशंकर मेनन

शिवशंकर मेनन का फाइल फोटो...

खास बातें

  • भारत के खिलाफ छोटे परमाणु हथियारों के इस्तेमाल के खतरे बढ़ गए हैं- मेनन
  • मेनन ने कहा कि ऐसी स्थिति में परमाणु युद्ध की आशंका बढ़ जाती है.
  • भारत की पाक नीति को वास्तविकता के संदर्भ में नहीं देखा गया- मेनन
नई दिल्ली:

पूर्व विदेश सचिव शिवशंकर मेनन ने कहा है कि पाकिस्तान द्वारा परमाणु बम के इस्तेमाल का खतरा बेहद बढ़ गया है. 'टू द प्वाइंट' नामक टेलीविजन कार्यक्रम में दिए एक साक्षात्कार में मेनन ने कहा कि पाकिस्तान द्वारा विकसित किए गए छोटे परमाणु हथियारों के इस्तेमाल की जिम्मेदारी युद्धक्षेत्र में निचले क्रम के अधिकारियों को सौंपी जाएगी, जो सेना में युवा अधिकारी होंगे और धार्मिक स्तर पर बेहद प्रेरित तथा कम से कम पेशेवर होंगे.

उनके मुताबिक, इसका आशय यह है कि भारत के खिलाफ ऐसे छोटे परमाणु हथियारों के इस्तेमाल के खतरे बढ़ गए हैं. मेनन ने कहा कि ऐसी स्थिति में परमाणु युद्ध की आशंका बढ़ जाती है, क्योंकि भारत इसका जवाब व्यापक परमाणु हथियारों से देगा.

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रह चुके मेनन ने कहा कि भारत के परमाणु हथियार पाकिस्तानी आतंकवादियों को हतोत्साहित करने के लिए नहीं हैं. उन्होंने कहा, "पाकिस्तान के किसी आतंकवादी हमले का जवाब परमाणु हथियार से देने की धमकी किसी मच्छर को मारने के लिए बंदूक का इस्तेमाल करने जैसी होगी और यह भारत के लोगों की समझ से परे होगी."

पूर्व विदेश सचिव ने कहा कि भारत की पाकिस्तान नीति को हमेशा वास्तविकता के संदर्भ में नहीं देखा गया.

26/11 मुंबई हमले पर बातचीत करते हुए मेनन ने कहा कि उन्होंने उस वक्त लश्कर-ए-तैयबा या पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवादी शिविरों या आईएसआई के खिलाफ मुंहतोड़ जवाब देने के लिए कहा था. विदेश सचिव के रूप में उन्होंने तत्कालीन विदेश मंत्री प्रणब मुखर्जी तथा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को सलाह दी थी कि भारत को मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए और यह दिखना चाहिए.

उन्होंने कहा कि मुखर्जी ने मेरी बातों से सहमति जताई थी, लेकिन उन्होंने इस मुद्दे पर मनमोहन सिंह की प्रतिक्रिया के बारे में खुलासा नहीं किया, हालांकि अंत में भारत ने इसका सैन्य जवाब नहीं दिया.

जम्मू एवं कश्मीर के उड़ी में आतंकवादी हमले के बाद भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 28 सितंबर को हुए सर्जिकल स्ट्राइक को मेनन ने अनिवार्य करार दिया. उन्होंने कहा, "भारत को निर्णायक सैन्य समाधान के बिना लंबे वक्त तक सीमा पार से आतंकवाद को रोकने के लिए तैयार रहना चाहिए."

मेनन का मानना है कि वास्तव में पाकिस्तान आतंकवाद पर नियंत्रण नहीं कर सकता. उन्होंने कहा कि आतंकवाद की जड़ें पाकिस्तान के समाज व राजनीति में हैं.

Newsbeep

मेनन की नई किताब 'च्वाइसेज : इनसाइड द मेकिंग ऑफ इंडियाज फॉरेन पॉलिसी' का पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह दो दिसंबर को आधिकारिक रूप से विमोचन करेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)