NDTV Khabar

मजबूत महागठबंधन और गोरखपुर-फूलपुर के नतीजों से परेशान थी BJP,तब अमित शाह ने निकाला पुराना फॉर्मूला

Election Results 2019 : बीजेपी के सामने बड़ी चुनौती थी कि उसके कोर वोटरों में शामिल सवर्ण इस बार एससी/एसटी संशोधन एक्ट से नाराज थे और अमित शाह को इस बात का अंदाजा हो गया था. सवर्णों को गुस्से को कम करने के लिए मोदी सरकार ने 10 फीसदी आरक्षण आर्थिक आधार पर लागू करने का ऐलान कर दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मजबूत महागठबंधन और गोरखपुर-फूलपुर के नतीजों से परेशान थी BJP,तब अमित शाह ने निकाला पुराना फॉर्मूला

Lok Sabha Election Results 2019 : उत्तर प्रदेश में बीजेपी ने 62 सीटें जीती है.

खास बातें

  1. महागठबंधन पर भारी पड़ी बीजेपी
  2. 60-40 का फॉर्मूला आया काम
  3. अमित शाह ने बनाई रणनीति
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन  को आपेक्षित सफलता नहीं मिली है. इन दलों की 80 सीटों पर जातिगत गोलबंदी की कोशिश सफल नहीं हो सकी. जातियों में बंटी इन दोनों पार्टियों का हर समीकरण धरातल पर नाकाम साबित हुआ. इस तरह सपा-बसपा गठबन्धन के जातीय समीकरण के मिथक ध्वस्त हो गए. दोनों दल राज्य में हो रहे परिवर्तन को समझने में नाकाम रहे. वे लोगों तक अपनी बात को जनता तक पहुंचाने में कामयाब नहीं हो सके. दलित, पिछड़ा और मुस्लिम वोटों की फिराक में हुए इस गठबन्धन के सारे गणित ध्वस्त हो गए. गठबन्धन में कांग्रेस को शामिल न करना भी कुछ हदतक नुकसानदायक गया है. कांग्रेस के उतारे प्रत्याशी किसी-किसी सीट पर सपा बसपा पर भारी पड़ते दिखे. वह इनके लिए सचमुच वोटकटवा साबित हुए हैं. लेकिन बीजेपी के लिए उत्तर प्रदेश में लड़ाई बिलकुल आसान नहीं थी. गोरखपुर-फूलपुर और कैराना में हुए उपचुनाव के बाद उत्तर प्रदेश में बीजेपी के पक्ष में माहौल बिलकुल नहीं था. सपा-बसपा और आरएएलडी के वोटों का गणित पार्टी पर पूरी तरह से भारी था और सभी चुनावी विशेषज्ञ अंदाजा लगा रहे थे कि बीजेपी को 15 से 20 सीटों से ज्यादा बेहद मुश्किल है. अंकगणित में बीजेपी पूरी तरह से कमजोर थी और बीजेपी के नेता भी एक तरह से हार मान बैठे थे. लेकिन इस समय बीजेपी के लिए जीत की गारंटी बन चुके बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बिलकुल हार मानी और उन्होंने एक बार फिर उसी फॉर्मूले पर काम  करना शुरू कर दिया जिसका इस्तेमाल साल 2014 के लोकसभा और 2017 के विधानसभा चुनाव में किया गया था. यह फॉर्मूला था 60-40 का. उत्तर प्रदेश में यादव, मुस्लिम और जाटव को मिलाकर 40 प्रतिशत वोटर हैं. इसके अलावा बाकी बची जातियों (इसमें सवर्ण भी शामिल) को मिला दें तो 60 फीसदी होती है. बीजेपी को इन 60 फीसदी वोटरों पर फोकस करना था इसके साथ ही सभी को ज्यादा से ज्यादा पोलिंग बूथ तक पहुंचाना था.  

उत्तर प्रदेश : मछलीशहर में बीएसपी से मात्र 181 वोटों से जीती BJP, पढ़ें ऐसी ही सीटें जहां कुछ भी हो सकता था


लेकिन बीजेपी के सामने बड़ी चुनौती थी कि उसके कोर वोटरों में शामिल सवर्ण इस बार एससी/एसटी संशोधन एक्ट से नाराज थे और अमित शाह को इस बात का अंदाजा हो गया था. सवर्णों को गुस्से को कम करने के लिए मोदी सरकार ने 10 फीसदी आरक्षण आर्थिक आधार पर लागू करने का ऐलान कर दिया. इसके बाद राम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े संतों और आरएसएस के कार्यकर्ताओं को सवर्णों को समझाने का जिम्मा दिया गया.  गैर जाटव जातियां जिनकी संख्या प्रतिशत में तो काफी कम  है लेकिन लगभग हर सीट पर वह ठीक ठाक प्रभाव रखते है, के कई छोटे-छोटे सम्मेलन कराए गए.  इन सबका प्रभाव यह रहा कि सवर्णों के साथ-साथ ये जातियां भी बीजेपी के पाले में एक बार फिर आ गईं.

कंगना रनौत ने पीएम नरेंद्र मोदी की जीत पर बनाए चाय-पकोड़े, Photo हुईं वायरल

इसके बाद पीएम किसान योजना ने भी बड़ा काम दिखाया और इस योजना के ज्यादा लाभार्थी इन्हीं जातियों के हैं. हालांकि गांवों में जो लोग खेती से जुड़े हैं वह छुट्टा घूम रहे आवारा पशुओं से काफी नाराज थे उनकी शिकायत थी कि यह जानवर उनकी फसलों का नुकसान कर रहे हैं. लेकिन ऐसा लगता है कि खाते में पीएम किसान निधि की राशि 2 हजार पहुंचते ही उनकी यह शिकायत दूर होती चली गई. इसके बाद पीएम मोदी इन जातियों को संबोधित करते हुए हमेशा बराबरी की बात करते थे. इसमें राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दे ने भी काफी असर किया और ऑपरेशन बालाकोट ने भी असर दिखाया.

हार पर मंथन करेगी कांग्रेस, कल CWC की होगी बैठक, इस्तीफे की पेशकश कर सकते हैं राहुल गांधी

इसके अलावा मोदी सरकार ने उन लाभार्थियों से भी सीधे बात करनी शुरू जिनको बीते पांच सालों में घर, शौचालय, गैस सिलेंडर और बिजली की सुविधा मिली है. इसके अलावा आयुष्मान भारत योजना का भी जोर-शोर से प्रचार किया गया. इनमें से कुछ योजनाओं को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले से ही विशेष निगरानी में लागू करवाना शुरू कर दिया गया था. जिसकी देखरेख प्रधानमंत्री कार्यालय सीएम योगी आदित्यनाथ सरकार के जरिए कर रहा था. इन योजनाओं को लागू करवाने के लिए बीजेपी की अपनी मशीनरी ने भी जमकर काम किया और कार्यकर्ताओं ने इसके लाभार्थियों से सीधे संपर्क किया. बीजेपी अपने 60 फीसदी वाले वोटरों में यह मैसेज देने में कामयाब हो गई कि पीएम मोदी एक मात्र ऐसे नेता हैं जो उनका भला कर सकते हैं. 

इस बॉलीवुड एक्ट्रेस ने नरेंद्र मोदी को किया 'साष्टांग दंडवत प्रणाम' तो पीएम का यूं आया जवाब

टिप्पणियां

इसके अलावा बीजेपी के रणनीतिकारों ने  उत्तर प्रदेश में 25 से ज्यादा रैलियों का प्लान बनाया. कुल मिलाकर बीजेपी ने पीएम मोदी के चेहरे, अपने कॉडर, सरकारी योजना का बेहतर प्रबंधन, राष्ट्रवाद के दम पर सभी समीकरणों को ध्वस्त करते हुए बीजेपी ने 62 सीटें जीतने में कामयाब हो गई.

जातिवाद, संप्रदायवाद और क्षेत्रवाद की जगह लोगों ने चुना विकासवाद: नकवी​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement