NDTV Khabar

PM मोदी से गले लगने पर स्‍पीकर ने उठाए सवाल , राजनाथ सिंह ने कहा- राहुल ने की संसद में 'चिपको आंदोलन' की शुरुआत

राहुल गांधी के इस अप्रत्‍याशित अंदाज पर स्‍पीकर समेत मोदी सरकार के कई मंत्री और बीजेपी पार्टी के कई नेताओं ने प्रतिक्रिया दी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
PM मोदी से गले लगने पर स्‍पीकर ने उठाए सवाल , राजनाथ सिंह ने कहा- राहुल ने की संसद में 'चिपको आंदोलन' की शुरुआत

राहुल गांधी ने सदन में केंद्र सरकार को घेरा.

खास बातें

  1. राहुल के समर्थन में आई कांग्रेस पार्टी
  2. केंद्र सरकार के मंत्रियों ने बयान पर दी प्रतिक्रिया
  3. अविश्वास प्रस्ताव को लेकर हो रही बहस में बोले राहुल गांधी
नई दिल्ली: सदन में अविश्‍वास प्रस्‍ताव के समर्थन में बोलने के बाद राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास जाकर उनसे गले मिले. राहुल गांधी के इस अप्रत्‍याशित अंदाज पर स्‍पीकर समेत मोदी सरकार के कई मंत्री और बीजेपी पार्टी के कई नेताओं ने प्रतिक्रिया दी है, जहां कुछ नेताओं ने इसे गैर जरूरी बताया है वहीं कुछ नेताओं ने इस अंदाज की तारीफ की है. कुछ ने कहा कि राहुल ने अपने भाषण की गंभीरता को गले मिलकर समाप्‍त कर दी. लोग उन्‍हें उनके भाषण की जगह गले मिलने की बात को लेकर याद करेंगे. अविश्‍वास प्रस्‍ताव के समर्थन में बोलने के बाद राहुल गांधी सदन में पीएम मोदी की सीट पर जाकर उनसे गले मिले. इस पर लोकसभा की स्‍पीकर ने आपत्त‍ि जाहिर की. लोकसभा स्‍पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा कि राहुल गांधी का यह व्‍यवहार अप्रत्‍याशित था. मुझे यह ठीक नहीं लगा. महाजन ने कहा कि यह समझ लीजिए कि सदन की गरिमा हमें ही रखनी है, कोई बाहर का आकर नहीं रखेगा. हमें संसद सदस्यों के रूप में अपनी गरिमा भी रखनी है. मैं चाहती हूं कि आप सब लोग प्रेम से रहो.मेरे दुश्मन नहीं हैं राहुल (गांधी) जी.बेटे जैसे ही लगते हैं.'' 
 
अविश्‍वास प्रस्‍ताव के खिलाफ अपने भाषण में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राहुल गांधी के इस व्‍यवहार पर जमकर चुटकी ली. राजनाथ सिंह ने कहा कि राहुल गांधी ने ऐसा कर लोकसभा में 'चिपको आंदोलन' की शुरुआत की है. केंद्रीय न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री विजय सांपला ने अपने ट्विटर एकाउंट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गले लगाए जाने का मज़ाक उड़ाते हुए एक पोस्ट किया.
 
केंद्रीय न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री विजय सांपला ने अपने ट्विटर एकाउंट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गले लगाए जाने का मज़ाक उड़ाते हुए एक पोस्ट किया है - "जबदस्ती गले पड़ना सुना होगा... देखा है कभी...?"
 
गले लगने वाली तस्‍वीर के साथ सांपला ने लिखा- "पहली बार मैंने इस मुहावरे का असली मतलब समझा- जबदस्ती गले पड़ना'' कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने राहुल गांधी द्वारा पीएम मोदी को गले लगाए जाने वाले व्‍यवहार पर कहा कि ''निश्छल प्रेम की 'जादू की एक झप्पी' नफरत की आंधी को कैसे रोक सकती है, यह राहुल गांधी जी ने दिखाया. आखिर राहुल जी ने कांग्रेस की मोहब्बत का आईना मोदी जी को दिखा ही दिया.''
 
वहीं BJP नेता तथा केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि उनका (कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का) व्यवहार बचकाना था.वह बड़े ज़रूर हो गए हैं, लेकिन दुर्भाग्यवश समझदार नहीं हुए हैं.यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस का अध्यक्ष इतनी गलत जानकारी रखता है, और अपरिपक्व है.
 
चंडीगढ़ से BJP सांसद किरण खेर ने कहा कि राहुल गांधी को शर्म आनी चाहिए.वह हमारे मंत्रियों को बिना किसी सबूत के निशाना नहीं बना सकते.वह सदन में ड्रामा कर रहे थे, और मोदी जी को गले लगा रहे थे.मुझे लगता है, उनका कदम बॉलीवुड होगा.हमें उन्हें वहां भेजना ही होगा.
राहुल गांधी द्वारा पीएम मोदी को गले लगाए जाने पर असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के पुत्र तथा कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई ने NDTV से कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश में दुनियाभर के नेताओं से गले मिलते हैं, लेकिन जब एक भारतीय नागरिक (कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी) ने उनसे गले मिलने की कोशिश की, तो वह हिचकिचा क्यों रहे थे?.

यह भी पढ़ें: जब राहुल गांधी के भाषण पर सदन में लगे ठहाके...

टिप्पणियां
राहुल गांधी के व्‍यवहार को लेकर आपत्त‍ि दर्ज कराने वालो में शिरोमणि अकाली दल की नेता तथा केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल भी थीं. अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान दिए गए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण को लेकर NDTV से बात करते हुए उन्‍होंने कहा कि पप्पू जी, अगर आप 'मुन्नाभाई' बनना चाहते हैं, तो मुंबई जाएं. पप्पी-झप्पी की राजनीति पिक्चरों में होती है, पार्लियामेंट में नहीं. मैंने भाषण के बाद राहुल से पूछा कि आज कौन-सा नशा करके आए हो, वह मेरी बात नहीं समझे.
 
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा, "आम लोगों में मोदी सरकार को लेकर जो गुस्सा है, वह राहुल की स्पीच में दिखा.PM को गले लगाकर राहुल ने यह संदेश भी दिया कि उनका हमला किसी व्यक्ति के खिलाफ नहीं था, उनके आरोप व्यक्तिगत नहीं थे.वहीं BJD नेता कलिकेश सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के व्‍यवहार और उनके भाषण पर कहा कि राहुल कॉन्फिडेंट और एग्रेसिव दिखे.उन्होंने मोदी जी से स्पीच देना सीख लिया है.पहली बार देखा कि किसी ने हाउस में किसी को गले लगाया हो.

VIDEO: सदन में बोले राहुल गांधी.

ज्ञात हो कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा में अपने भाषण की समाप्‍ति इस तरीके से की. राहुल ने कहा कि आप लोगों के भीतर मेरे लिए नफरत है.आप मुझे 'पप्पू' कह सकते हैं, गालियां देकर बुला सकते हैं, लेकिन मेरे अंदर आपके लिए नफरत नहीं है.इसके बाद राहुल गांधी चलकर प्रधानमंत्री के पास गए और उन्हें गले लगाया.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement