लंबे वक्त तक हाशिए पर रही CPI-ML विपक्षी महागठबंधन में स्टार बनकर उभरी

बिहार चुनाव नतीजों (Bihar Elections Result) में राष्ट्रीय जनता दल (RJD), कांग्रेस (Congress) और वाम दलों (Left Parties) के विपक्षी महागठबंधन की उम्मीद से कम सीटें नजर आती दिख रही हैं.

लंबे वक्त तक हाशिए पर रही CPI-ML विपक्षी महागठबंधन में स्टार बनकर उभरी

तेजस्वी यादव बिहार में महागठबंधन का नेतृत्व कर रहे हैं.

नई दिल्ली:

बिहार चुनाव नतीजों (Bihar Elections Result) में राष्ट्रीय जनता दल (RJD), कांग्रेस (Congress) और वाम दलों (Left Parties) के विपक्षी महागठबंधन की उम्मीद से कम सीटें नजर आती दिख रही हैं. हालांकि महागठबंधन का हिस्सा रही पार्टी CPI(ML) ने अच्छा प्रदर्शन किया है. पार्टी ने पहली बार बड़े पैमाने पर चुनाव लड़ा और चुनाव नतीजों में वह 12 सीटों पर आगे चल रही है. राष्ट्रीय जनता दल 60-प्लस सीटों के साथ  महागठबंधन का नेतृत्व कर रहा है.

लेखक और स्तंभकार अजय बोस ने एनडीटीवी से कहा, "विपक्षी गठबंधन को सबसे ज्यादा नुकसान कांग्रेस के चलते उठाना पड़ा है.  सीपीआई (एमएल), जिसका अतीत में नक्सलवाद से जुड़ाव रहा है,  को राष्ट्रीय जनता दल ने अपने कोटे से सीटें दी थीं. पार्टी इस चुनाव में 19 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, लेफ्ट ब्लॉक की बाकी सीटें सीपीआई और सीपीआई(एम) को दी गई थीं.

यह भी पढ़ें: सरकार महागठबंधन की ही बनेगी, सभी उम्मीदवार मतगणना पूरी होने तक काउंटिंग हॉल में बने रहें : RJD

बोस सीपीआई (एमएल) और राजद के बीच गठबंधन को "बड़ी उपलब्धि" बताते हैं. बोस ने कहा, "लालू की पार्टी के साथ गठबंधन करना सीपीआईएमएल के लिए एक बड़ी बात है. क्योंकि राजद चरमपंथी वामपंथियों पर कुछ सबसे खतरनाक हमलों के लिए ज़िम्मेदार है." यह दिखाता है कि सीपीआई (एमएल) राजनीतिक रूप से कितनी दूर आ गई है.

मंडल राजनीति के चलते बिहार में अधिकांश सीपीआई और सीपीएम नेताओं की की वर्गीय राजनीति राजद की जातिगत राजनीति में एकीकृत हो गई थी. लेकिन सीपीआई (एमएल) अभी भी अपने आधार को बनाए रखने में कामयाब रहा, जिसने मौजूदा चुनावों में इसकी मदद की है.

बोस ने सीपीआई (एमएल) के स्ट्राइक रेट की बात करते हुए कहा कि यह दिखाता है कि गरीबों, हाशिए और निम्न जातियों के बीच सीपीआईएमएल की "एक निश्चित विश्वसनीयता" है. हालांकि पार्टी ने कभी भी इससे पहले मुख्यधारा में प्रतिस्पर्धा करने के लिए गठबंधन नहीं किया था.

Newsbeep

गठबंधन को लेकर CPI (ML) के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने  NDTV को बताया था कि  उनकी पार्टी ने 2019 चुनावों में लोकसभा की चार सीटों पर राजद का समर्थन किया था. उन तीन सीटों में, विपक्षी उम्मीदवारों को 4 लाख से अधिक वोट मिले थे. अरा और भोजपुर में सीपीआई (एमएल) के उम्मीदवारों ने 4 लाख से अधिक वोट हासिल किए थे. 

बिहार चुनाव : रुझानों में BJP सबसे बड़ी पार्टी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com