NDTV Khabar

लव जिहाद केस : युवती के पति की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

कोर्ट ने कहा कि जब भी जरूरत होगी युवती को 24 घंटे में सुप्रीम कोर्ट में पेश करना होगा.

728 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
लव जिहाद केस : युवती के पति की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

फाइल फोटो

खास बातें

  1. कोर्ट ने नोटिस जारी कर एक हफ्ते में जवाब मांगा
  2. लड़की के पिता से एक हफ्ते में सारे कागजात मांगे गए
  3. कोर्ट ने कहा कि ये बेहद संवेदनशील मुद्दा
नई दिल्‍ली: केरल में युवती द्वारा मुस्लिम धर्म अपनाकर निकाह करने का मामले में सुप्रीम कोर्ट ने लड़की के पिता, केरल सरकार और NIA को नोटिस जारी कर एक हफ्ते में जवाब मांगा है. लड़की के पिता से एक हफ्ते में सारे कागजात मांगे गए हैं. कोर्ट ने कहा कि जब भी जरूरत होगी युवती को 24 घंटे में सुप्रीम कोर्ट में पेश करना होगा. कोर्ट ने कहा कि यह संवेदनशील मुद्दा है और इस पर विस्तार से सुनवाई जरूरी है. केरल हाईकोर्ट की खंडपीठ ने मुसलमान धर्म अपनाकर शादी करने वाली हिन्दू लड़की के निकाह को अवैध करार दिया था. हाईकोर्ट ने इसे लव जिहाद का केस बताया था. युवती के पति ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है.

यह भी पढ़ें: 2019 के लोकसभा चुनाव में होगा VVPAT का इस्तेमाल 

सुनवाई के दौरान लड़की के पिता की ओर से कहा गया कि युवक ने उसे एक संस्था के इशारे पर सुनियोजित तरीके से धर्म परिवर्तन कराया. दरअसल 24 साल की अखिला का निकाह मुस्लिम युवक शैफीन जहां के साथ हुआ था, लेकिन लड़की अखिला का परिवार इस शादी का विरोध शुरू से करता आ रहा था.

अखिला का किस्‍सा
अखिला के पिता के एम अशोकन ने केरल हाईकोर्ट में धर्मानंतरण करने और शादी तोड़ने की याचिका दायर की थी, जिस पर जस्टिस सुरेंद्र मोहन और जस्टिस अब्राहम मैथ्यू की पीठ ने अखिला ( लड़की ) के पिता केएम अशोकन की याचिका पर सुनवाई करते हुए ये बेहद अहम फैसला दिया है. कोर्ट ने कहा कि शादी उसके जीवन का सबसे अहम फैसला है और उसे इसमें अपने माता-पिता की सलाह लेनी चाहिए थी. अदालत ने अपने फैसले में कहा, कथित तौर पर हुई शादी बकवास है और कानून की नजर में इसकी कोई अहमियत नहीं है. उसके शौहर को उसका पति बनने का कोई अधिकार नहीं है.

गौरतलब है कि केरल के कोट्टयम जिले के वाइकॉम की रहने वाली लड़की के पिता और याचिककर्ता केएम अशोकन ने याचिका में कोर्ट से कहा था कि उनकी बेटी को मुस्लिम लड़के ने सोची समझी साज़िश के तहत आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट में शामिल कराने के लिए पहले धर्म परिर्वतन कराकर मुसलमान बनवाया और झूठे प्रेम का ढोंग कर शादी रचा ली.

VIDEO: NOTA के विकल्‍प के साथ होंगे गुजरात राज्‍यसभा चुनाव


हाईकोर्ट ने अशोकन को उनकी बेटी अखिला की सुरक्षा देने के लिए कोट्टयम जिला पुलिस को निर्देश दिया. अदालत के आदेश पर महिला छात्रावास में रह रही अखिला अब अपने पिता अशोकन के साथ रहेगी. अदालत ने पुलिस को मामले की जांच के भी आदेश दिए हैं. अदालत ने पुलिस से जबरन धर्मांतरण और इसके लिए जिम्मेदार संस्थाओं की जांच के लिए कहा है, हालांकि लड़की अखिला ने कोर्ट के सामने कहा था कि उसने अपनी मर्जी से मुस्लिम धर्म कबूल किया है.

 अखिला के मुसलमान बन जाने के बाद अशोकन ने पिछले साल अदालत में याचिका दायर की थी. अशोकन की याचिका पर सुनवाई के दौरान ही अखिला ने शफीन जहां नाम के मुस्लिम लड़के से निकाह कर लिया था जिसे अब कोर्ट ने इसी अवैध करार दिया है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement