पीट-पीटकर हत्या की घटनाओं पर मेरा खून खौलने लगता है : प्रियंका गांधी वाड्रा

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि ऐसी घटनाओं पर सही सोच वाले हर व्यक्ति का खून खौलना चाहिए

पीट-पीटकर हत्या की घटनाओं पर मेरा खून खौलने लगता है : प्रियंका गांधी वाड्रा

नेशनल हेराल्ड के कार्यक्रम में प्रियंका गांधी वाड्रा ने बेबाकी से रखी अपनी राय...(फाइल फोटो)

खास बातें

  • प्रियंका ने कहा - ऐसी घटनाओं को देखकर मुझे बहुत गुस्सा आता है
  • राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी हिंसक भीड़ की निंदा की थी
  • कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एनडीए सरकार पर निशाना साधा
नई दिल्ली:

प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को कहा कि पीट-पीटकर हत्या की घटनाओं से मुझे बेहद गुस्सा आता है और मेरा खून खौलने लगता है. नेशनल हेराल्ड द्वारा स्मारक प्रकाशन जारी किए जाने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम से इतर प्रियंका से पूछा गया था कि अतिसर्तकता के नाम पर पीट-पीटकर हत्या जैसी घटनाओं को लेकर क्या उनके भी विचार अपनी मां और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के समान ही हैं.

प्रियंका ने एक चैनल से बातचीत में कहा, "मेरे विचार भी पूरी तरह से वही हैं. इनसे मुझे बेहद गुस्सा आता है, जब मैं ऐसी चीजें टीवी या इंटरनेट पर देखती हूं तो मेरा खून खौलने लगता है. मुझे बहुत ज्यादा गुस्सा आता है. मुझे लगता है कि इससे सही सोच वाले हर एक व्यक्ति का खून खौलना चाहिए."    

उधर, राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को नेशनल हेराल्ड के स्मारक संस्करण को लॉन्च किया. इस कार्यक्रम में प्रियंका गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कई विपक्षी दलों के नेता भी मौजूद थे. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि भीड़ द्वारा लोगों को जान से मारने की घटनाओं पर गंभीरता से विचार करने की जरूरत है. प्रणब ने कहा कि नागरिकों, बुद्धिजीवियों और मीडिया की सतर्कता अंधी और प्रतिगामी ताकतों के खिलाफ सबसे बड़े प्रतिरोध के रूप में काम कर सकती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मौजूदा एनडीए सरकार पर भी निशाना साधा. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कानून का पालन करवाने की जिम्मदारी जिस पर है, वो उनका समर्थन कर रहे हैं, जो क्या खाएं या नहीं, किससे प्यार करें और किससे नहीं, जैसी चीजों पर जबरन अपने विचार थोप रहे हैं. सोनिया गांधी ने कहा कि घरेलू कुशासन भी विदेश कुशासन की तरह बड़ी चुनौती है. उन्होंने कहा कि अगर सत्ता के खिलाफ नहीं आवाज उठाई गई, तो फिर ये हमारी सहमति समझी जाएगी.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)