MP के एक अतिथि विद्वान ने आर्थिक तंगी के चलते किया सुसाइड, छह महीने से नहीं मिली थी सैलरी

मध्यप्रदेश में उमरिया जिले में पदस्थ अतिथि विद्वान सह खेल अधिकारी संजय कुमार ने आर्थिक तंगी के चलते किराए के घर में फांसी लगाकर सोमवार की रात आत्महत्या कर ली.

MP के एक अतिथि विद्वान ने आर्थिक तंगी के चलते किया सुसाइड, छह महीने से नहीं मिली थी सैलरी

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

मध्यप्रदेश में उमरिया जिले में पदस्थ अतिथि विद्वान सह खेल अधिकारी संजय कुमार ने आर्थिक तंगी के चलते किराए के घर में फांसी लगाकर सोमवार की रात आत्महत्या कर ली. परिवार के मुताबिक वो लगातार नौकरी छूटने के डर, बच्चों के भविष्य को लेकर परेशान थे. हालांकि संजय का एक सुसाइड नोट, जिसे बाद में पुलिस ने बरामद किया उसमें कथित तौर पर लिखा गया है कि वो अपना जीवन खुद समाप्त कर रहे हैं, इसके लिये कोई और ज़िम्मेदार नहीं है. नोट में ये भी लिखा है कि उनके भाई चंदन को कॉलेज की नौकरी लेनी चाहिए और भविष्य निधि का पैसा विधवा लालसा को दिया जाना चाहिए.

खुलासा: दिल्ली पुलिस की सब इंस्पेक्टर प्रीति को गोली मारने वाला निकला SI, हत्या करने के बाद कर लिया सुसाइड

उनकी पत्नी लालसा ने बताया उन्हें छह महीने से सैलरी नहीं मिली थी. वो कहते थे अब मेरे बच्चों के भविष्य का क्या होगा. सरकार ने हमारे पेट में लात मार दी. हमें कहीं का नहीं छोड़ा. बच्चा 10वीं में पढ़ता है, उसकी फीस नहीं भर पाए हैं. अब मेरे सामने कोई रास्ता नहीं है. मंत्री आएं या फिर मैं मंत्रीजी के पास पति की मिट्टी लेकर जाऊंगी. मेरी तो जिंदगी ही खत्म हो गई है. मैं क्या करुं, कहां जाऊं. अगर मंत्री जी मेरे लिए कुछ नहीं कर सकते तो मैं भी आत्महत्या कर लूंगी, मंत्री जी तभी खुश होंगे. मैं चाहती हूं कि मंत्री जी मुझे और मेरे बच्चे के भविष्य को देखें. अब मंत्री जी को निर्णय लेना है, वरना मैं भी तीनों बच्चों के साथ पति की तरह आत्महत्या कर लूंगी." लालसा, भी अचानक ब्लड प्रेशर बढ़ने से अस्पताल में भर्ती है.

इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, “उमरिया के अतिथि विद्वान श्री संजय कुमार की आत्महत्या के लिए अगर कोई जिम्मेदार है, तो वह है प्रदेश की निकम्मी सरकार. उस बेसहारा विधवा को कांग्रेस सरकार क्या जवाब देगी? मासूम बच्चों की देखभाल कौन करेगा?''

टीवी एक्ट्रेस सेजल शर्मा ने किया सुसाइड, 'दिल तो हैप्पी है जी' में आईं थीं नजर...

सत्तारूढ़ कांग्रेस के प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने जवाब देते हुए कहा, "उमरिया जिले के चंदिया शासकीय महाविद्यालय में क्रीड़ा अधिकारी संजय कुमार के निधन का दुखद समाचार मिला. उनके दुखद निधन पर हम शोक संवेदना व्यक्त करते है. अफ़सोस नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ऐसे संवेदनशील विषय पर भी शर्मनाक राजनीति कर रहे हैं, उसे अतिथि विद्वान आंदोलन से जोड़ रहे हैं? जो जानकारी हमें प्राप्त हुई है, उसके अनुसार उनके मृत्यु पूर्व लिखे पत्र में कही भी इस बात का कोई ज़िक्र नहीं है. यदि उनकी जान देने के पीछे यह कारण होता तो वे उसका ज़िक्र उस पत्र में वे ज़रूर करते. भाजपा ऐसी दुखद घटना को भी राजनीति का विषय बना रही है. बेहद शर्मनाक....''

संजय कुमार चंदिया कॉलेज में ही स्पोर्ट्स टीचर के रूप में पदस्थ थे. बताया कि मृतक संजय कुमार की पत्नी लालसा देवी के पास पति के शव को अपने गृह जिला बलिया तक ले जाने के लिए किराए के पैसे नहीं थे. अतिथि विद्वानों एवं स्थानीय प्रशासन के सहयोग से संजय कुमार का शव उनके गृह जिले बलिया भेजा गया है.

पंखे से झूलता मिला युवती का शव, दीवार पर लिखा था ‘आई एम रिस्पांसिबल फॉर माय डेथ'

मध्य प्रदेश के अतिथि विद्वानों का विरोध प्रदर्शन भोपाल में शाहजहानी पार्क में 65वें दिन में प्रवेश कर चुका है, इसमें महिलाएं भी शामिल हैं. ये अतिथि विद्वान अपने नियमितीकरण और कम से कम छह महीने के बकाया मानदेय के भुगतान की मांग कर रही हैं. लगभग 5000 अतिथि विद्वानों को नियमित करना 2018 विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस के घोषणा पत्र के वादों में से एक था.

(आत्‍महत्‍या किसी समस्‍या का समाधान नहीं है. अगर आपको सहारे की जरूरत है या आप किसी ऐसे शख्‍स को जानते हैं जिसे मदद की दरकार है तो कृपया अपने नजदीकी मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ के पास जाएं.)

हेल्‍पलाइन नंबर:

AASRA: 91-22-27546669 (24 घंटे उपलब्ध)

स्‍नेहा फाउंडेशन: 91-44-24640050 (24 घंटे उपलब्ध)

वंद्रेवाला फाउंडेशन फॉर मेंटल हेल्‍थ: 1860-2662-345 और 1800-2333-330 (24 घंटे उपलब्ध)

Newsbeep

iCall: 022-25521111 (सोमवार से शनिवार तक उपलब्‍ध: सुबह 8:00 बजे से रात 10:00 बजे तक)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एनजीओ: 18002094353 दोपहर 12 बजे से रात 8 बजे तक उपलब्‍ध)