Madhya Pradesh Bypoll Results : ज्योतिरादित्य सिंधिया का कद हुआ ऊंचा, कांग्रेस की स्थिति कमजोर

दोपहर तक ही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने पार्टी के 'विजेताओं' को जीत की बधाई दे दी थी. उन्होंने इसके लिए ट्वीट भी किया था. उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि विजेता उम्मीदवार जनता की सेवा के लिए उत्सुक बने रहेंगे.

Madhya Pradesh Bypoll Results : ज्योतिरादित्य सिंधिया का कद हुआ ऊंचा, कांग्रेस की स्थिति कमजोर

MP Bypolls Results : ज्योतिरादित्य सिंधिया के कद में हुई बढ़ोतरी.

नई दिल्ली:

Madhya Pradesh Bypoll Results 2020 : मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव (Madhya Pradesh Bypolls) कराए गए हैं. मंगलवार को इन सीटों पर शाम तक मतगणना जारी है. रुझान लगभग स्पष्ट हो चुके हैं. जल्द ही एक-एक करके नतीजे आने भी शुरू हो जाएंगे. लेकिन एक बात जो है वो स्पष्ट है कि इन उपचुनावों ने पूर्व कांग्रेसी और अब बीजेपी से राज्यसभा के सांसद बन चुके ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का कद और ऊंचा कर दिया है. सिंधिया ने मार्च में 22 कांग्रेसी विधायकों के साथ अपने पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद कमलनाथ की सरकार गिर गई थी. ऐसे में इस बार वो अपने उन साथियों की जीत चाहते हैं, जो मार्च में उनके साथ बीजेपी में शामिल हुए थे.

न्यूज एजेंसी PTI के मुताबिक, दोपहर बाद तक की काउंटिंग में मध्य प्रदेश में सत्तारूढ़ बीजेपी 28 में से 20 विधानसभा सीटों पर आगे चल रही थी, वहीं कांग्रेस को सात सीटों पर बढ़त मिली हुई थी. बहुजन समाज पार्टी को मौरेना विधानसभा में लीड कर रही थी.

यह भी पढ़ें: गुजरात उपचुनावों के रुझानों के बाद रूपाणी ने कहा-कांग्रेस डूबता जहाज, जनता से उसका जुड़ाव खत्म हो गया


दोपहर तक ही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने पार्टी के 'विजेताओं' को जीत की बधाई दे दी थी. उन्होंने इसके लिए ट्वीट भी किया था. उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि विजेता उम्मीदवार जनता की सेवा के लिए उत्सुक बने रहेंगे. वहीं, रुझानों के बाद कांग्रेस नेता कमल नाथ ने बयान दिया कि 'पूरी तरह नतीजे आ जाने दीजिए. हम जनादेश का सम्मान करेंगे और मतदाताओं को धन्यवाद करेंगे.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि बीजेपी को यहां पर अपनी सरकार बचाने के लिए महज नौ सीटों पर जीत हासिल करनी थी, लेकिन 20 सीटों पर बढ़त बनाकर चल रही बीजेपी के लिए यह मुश्किल नहीं था. वहीं, कांग्रेस यहां बस अपना वोट मार्जिन ही बढ़ाने की उम्मीद कर सकती थी क्योंकि बीजेपी को चैलेंज करने के लिए उसे कुल 28 सीटों पर जीत हासिल करनी पड़ती.