MP की सियासत में एक बार फिर उठापटक? एमपी कांग्रेस का दावा- 15 अगस्त को CM के रूप में तिरंगा फहराएंगे कमलनाथ

भारतीय जनता पार्टी 25 मार्च तक सरकार बनाने का दावा कर सकती है. आज बीजेपी विधायक दल का नेता चुने जाने पर संशय है. हालांकि 23 मार्च को विधायक दल की बैठक हो सकती है.

MP की सियासत में एक बार फिर उठापटक? एमपी कांग्रेस का दावा- 15 अगस्त को CM के रूप में तिरंगा फहराएंगे कमलनाथ

कमलनाथ ने फ्लोर टेस्ट से पहले दिया इस्तीफा (फाइल फोटो)

खास बातें

  • कमलनाथ ने शुक्रवार को दिया सीएम पद से इस्तीफा
  • इस्तीफे के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस ने किया ट्वीट
  • संभालकर रखने को कहा
नई दिल्ली:

मध्य प्रदेश में शुक्रवार को कमलनाथ ने फ्लोर टेस्ट से पहले अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया. इसके बाद से नए मुख्यमंत्री को लेकर कोशिशें तेज हो गई हैं. कहा जा रहा है कि सीएम की रेस में शिवराज सिंह चौहान सबसे आगे चल रहे हैं. वह पहले भी तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं. कमलनाथ के इस्तीफा देने के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस ने एक ट्वीट किया है. जिससे लगता है कि मध्य प्रदेश की राजनीति में आगे चलकर फिर उठापटक हो सकती है. मध्य प्रदेश कांग्रेस ने ट्विटर पर लिखा, "इस ट्वीट को संभाल कर रखना- 15 अगस्त 2020 को कमलनाथ जी मप्र के मुख्यमंत्री के तौर पर ध्वजारोहण करेंगे और परेड की सलामी लेंगे. ये बेहद अल्प विश्राम है." 

कमलनाथ सरकार की मुश्किलों का दौर मार्च महीने की शुरुआत में चालू हुआ, जब कांग्रेस के कुछ विधायक गुरुग्राम के एक होटल में पहुंच गए थे. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शिवराज सिंह समेत अन्य बीजेपी नेताओं पर विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप लगाया था. कांग्रेस की मुश्किलें उस समय और बढ़ गईं जब पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी में शामिल हो गए. इसके बाद सिंधिया समर्थक कांग्रेस विधायकों ने इस्तीफा दे दिया. आखिर कल कमलनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस्तीफा देने की घोषणा की और राजभवन पहुंचकर अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया. इसके बाद कांग्रेस ने ट्वीट कर यह दावा किया है. 

खबर आ रही है कि भारतीय जनता पार्टी 25 मार्च तक सरकार बनाने का दावा कर सकती है. आज बीजेपी विधायक दल का नेता चुने जाने पर संशय है. हालांकि 23 मार्च को विधायक दल की बैठक हो सकती है. तीन बार के मुख्यमंत्री रह चुके शिवराज सिंह चौहान एक बार फिर सीएम की रेस में सबसे आगे हैं. मुख्यमंत्री के पद के लिए नरेन्द्र सिंह तोमर, नरोत्तम मिश्रा के नामों की भी चर्चा चल रही है.

कमलनाथ के इस्तीफे के कुछ ही मिनटों बाद पत्रकारों ने जब कृषि और ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से पूछा कि क्या वो भोपाल जाने को तैयार हैं तो वो कुछ भी बोलने से बचते दिखे. जब तोमर से पूछा गया कि वे केंद्र की राजनीति में रहेंगे या राज्य की राजनीति में जाने को तैयार हैं? इस पर उन्होंने कहा कि पार्टी की बैठक होने दो. क्या होता है वो देखंगे.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com