NDTV Khabar

जब तक महिला की गलती नहीं होती, तब तक पुरुष कोई गलती नहीं कर सकता : इमरती देवी

मध्य प्रदेश भले ही महिलाओं के प्रति अपराध में नंबर वन हो लेकिन इसके लिये पुरुष दोषी नहीं हैं. कुछ ऐसा ही संदेश मिल रहा है राज्य की महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी के बयान से.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जब तक महिला की गलती नहीं होती, तब तक पुरुष कोई गलती नहीं कर सकता : इमरती देवी

मध्य प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री हैं इमरती देवी

नई दिल्ली:

मध्य प्रदेश भले ही महिलाओं के प्रति अपराध में नंबर वन हो लेकिन इसके लिये पुरुष दोषी नहीं हैं, कुछ ऐसा ही मानना है  राज्य की महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी का. दरअसल उनसे एक सवाल हनी ट्रैप कांड पर किया गया था जिसके जवाब में मंत्री जी ने कहा जब तक महिला की गलती नहीं होती, तब तक पुरुष कोई गलती नहीं कर सकता.  उन्होंने कहा, 'महिला की गलती होती है तो पुरुष को दोषी माना जाता है, इसलिये अगर महिला की गलती है तो महिला को दोषी मानना चाहिये ये हम कहते हैं. आज चाहे कहीं भी चले जाओ कितने पैसे वाले हों, गुंडा हो मवाली हों जब तक महिला की गलती नहीं होगी पुरुष कोई गलती नहीं कर सकता'.

इमरती देवी मध्य प्रदेश की महिला बाल विकास मंत्री हैं उन परराज्य की महिलाओं की दशा सुधारने का जिम्मा है. लेकिन हनी ट्रैप पर पूछे गये सवाल से इनका विचार जाहिर हो जाते हैं. इमरती देवी को शायद राज्य में महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध के आंकड़ो की जानकारी नहीं है.  एनसीआरबी की रिपोर्ट बताती है कि देश में हर चार घंटे में एक महिला बलात्कार का शिकार होती है.  इस लिस्ट में तीन सालों से मध्य प्रदेश पहले पायदान पर है, जहां 4882 महिलाओं के साथ बलात्कार हुआ. उत्तर प्रदेश में दूसरे नंबर पर है जहां 4816 महिलाओं के साथ बलात्कार हुआ.
    
अभी कुछ दिन पहले मंत्री इमरती देवी ने कहा था कि डॉक्टरों के तबादले में पैसे लगते हैं इसलिए उनका ट्रांसफर न कराकर सस्पेंड कर देते हैं. मंत्री जी को बच्चों के लिये रसोई के बजाए शौचालय में खाना बनाने में भी ऐतराज नहीं था, हालांकि बाद में उन्होंने ये जरूर कहा उनके बयान को तोड़ा मरोड़ा गया है.

 कुछ दिनों पहले ही सरकार ने कहा कि मध्य प्रदेश में महिलाओं के विरुद्ध आपराधिक मामलों में 5.51 प्रतिशत की कमी आई है. डीजीपी ने गाइडलाइन जारी कर महिला अपराधों की जांच से लेकर पुलिस अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की है. देरी करने वाले अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच के साथ नियमानुसार सजा भी दी जाएगी. लेकिन मंत्रीजी की चले तो कार्रवाई क्यों आखिर गलती तो महिला की ही होगी.


हनीट्रैप मामले में एक हजार से ज्यादा VIDEO क्लिप खंगाल रही पुलिस​

अन्य खबरें :
मध्य प्रदेश का हनी ट्रैप केस : वकील का दावा, केंद्र सरकार की फर्म ने 5 आरोपियों में से एक को दिया था ठेका

टिप्पणियां

Honey Trap Case: हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा, एसआईटी प्रमुख को बार-बार क्यों बदला?

एसआईटी प्रमुख को हटाने से पहले कमलनाथ ने किसे किया था तलब और किसने कहा सरकार झेल नहीं पाएगी खुलासे



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement