NDTV Khabar

दिग्विजय सिंह की हार पर समाधि लेने की घोषणा करने वाले बाबा अब पुलिस की निगरानी में, जानें- पूरा मामला 

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) के हारने पर समाधि लेने की घोषणा कर चर्चा में आए बाबा वैराग्यनंद गिरी महाराज अब पुलिस की निगरानी में हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिग्विजय सिंह की हार पर समाधि लेने की घोषणा करने वाले बाबा अब पुलिस की निगरानी में, जानें- पूरा मामला 

वैराग्यनंद गिरी महाराज ने दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) के हारने पर समाधि लेने की घोषणा की थी.

नई दिल्ली :

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) के हारने पर समाधि लेने की घोषणा कर चर्चा में आए बाबा वैराग्यनंद गिरी महाराज अब पुलिस की निगरानी में हैं. रविवार को भोपाल पहुंचने के बाद से ही मध्य प्रदेश पुलिस लगातार उनपर नजर बनाए हुए है. आपको बता दें कि हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में बाबा ने भोपाल सीट से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) की जीत का दावा किया था और ऐसा न होने पर जल समाधि लेने की घोषणा की थी. दिग्विजय सिंह के हारने के बाद घोषणा के मुताबिक बाबा ने 14 जून को जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर रविवार दोपहर 2.11 मिनट के महुर्त पर जल समाधि लेने की अनुमति मांगी थी. 

दिग्विजय सिंह की जीत की भविष्यवाणी करने वाले बैराग्यानंद लेंगे समाधि, जिलाधिकारी को लिखी चिट्ठी


हालांकि, भोपाल कलेक्टर तरूण कुमार पिथोड़े ने इसकी अनुमति देने से इनकार कर दिया और पुलिस को बाबा के जानमाल की सुरक्षा करने को कहा. इसके तहत भोपाल के बड़े तालाब पर शीतलदास की बगिया पर पुलिसकर्मी तैनात थे. बाबा आज दोपहर 2.11 बजे के तय महुर्त पर जल समाधि लेने तालाब में नहीं पहुंच सके क्योंकि पुलिस ने उन्हें होटल से नहीं निकलने दिया. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बाबा को जल समाधि लेने नहीं दिया जा सकता और इसकी अनुमति भी नहीं दी जायेगी क्योंकि इस प्रकार की अनुमति देने का कोई प्रावधान ही नहीं है. 

विवादों के बाद भी जीत गईं प्रज्ञा ठाकुर, मालेगांव धमाकों की आरोपी से लेकर सांसद बनने तक का सफर

टिप्पणियां

बाबा के अधिवक्ता माजिद अली ने कहा कि गुवाहटी के कामाख्या मंदिर में तपस्या के बाद बाबा आज सुबह भोपाल हवाई अड्डे पर उतरे हैं और इसके बाद से ही पुलिस लगातार उनकी निगरानी कर रही है. बता दें कि वैराग्यनंद ने ऐलान किया था कि यदि दिग्विजय सिंह लोकसभा चुनाव में भोपाल सीट से चुनाव नहीं जीते तो वह समाधि ले लेंगे. उनकी इस घोषणा के बाद निरंजनी अखाड़े ने उन्हें राजनीति करने के आरोप में अखाड़े से निष्कासित कर दिया. बाबा वैराग्यनंद ने रविवार को भोपाल में संवाददाताओं से कहा कि अपनी घोषणा के अनुसार वह जल समाधि लेना चाहते हैं लेकिन प्रशासन ने इसकी अनुमति नहीं दी है. उन्होने कहा कि वह एक दफा फिर प्रशासन से इसकी अनुमति मांगगे. (इनपुट-भाषा) 

VIDEO: प्रज्ञा ठाकुर ने 3 लाख 64 हजार वोटों से दिग्विजय सिंह को हराया



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement