महाराष्ट्र में सीएम उद्धव ठाकरे ने लॉन्च किया Project Platina, है दुनिया का सबसे बड़ा प्लाज्मा ट्रायल प्रोजेक्ट

सीएमओ के मुताबिक, 'यह दुनिया का सबसे बड़ा ट्रायल-कम-ट्रीटमेंट प्रोजेक्ट है, जिससे महाराष्ट्र में कोविड-19 से गंभीर रूप से बीमार लगभग 500 लोगों का इलाज किया जाएगा'. 

महाराष्ट्र में सीएम उद्धव ठाकरे ने लॉन्च किया Project Platina, है दुनिया का सबसे बड़ा प्लाज्मा ट्रायल प्रोजेक्ट

सीएम उद्धव ठाकरे ने सोमवार को लॉन्च किया प्रोटेक्ट प्लेटीना.

नई दिल्ली:

महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने सोमवार यानी कि आज प्रोजेक्ट प्लैटिना (Project Platina) लॉन्च किया है. आपको बता दें, यह प्लाज्मा थेरेपी (Plasma Therapy) के जरिए गंभीर रूप से कोविड-19 (COVID-19) से संक्रमितों के इलाज के लिए शुरू किया गया सबसे बड़ा ट्रायल प्रोजेक्ट है. सीएमओ के मुताबिक, 'यह दुनिया का सबसे बड़ा ट्रायल-कम-ट्रीटमेंट प्रोजेक्ट है, जिससे महाराष्ट्र में कोविड-19 से गंभीर रूप से बीमार लगभग 500 लोगों का इलाज किया जाएगा'. 

इसके साथ ही प्लाज्मा थेरेपी ट्रायल के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोश से ही फंडिंग की जाएगी. उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने ट्विटर पर इसकी घोषणा की है. इसके साथ ही अपने इस ट्वीट में उन्होंने लिखा कि ''महाराष्ट्र कोविड-19 के खिलाफ इस जंग में शुरुआत से ही प्लाज्मा थेरेपी पर काम कर रहा है लेकिन अब इसके लिए पूरे राज्य में एक ट्रायल ट्रीटमेंट प्रोजेक्ट शुरू किया गया है''. 

इसके बाद एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, ''महाराष्ट्र में प्लाज्मा थेरेपी के मरीजों का इलाज मुफ्त में किया जाएगा. इन मरीजों का इलाज 17 मेडिकल कॉलेज में किजा एगा. यह न केवल दुनिया को प्लाज्मा थेरेपी उपचार के लिए एक बड़ा मजबूत डेटा देगा, बल्कि राज्य भर में इस थेरेपी के लिए बुनियादी ढांचा बनाने में भी मदद करेगा.''


अपने तीसरे ट्वीट में आदित्य ने कहा, ''प्लाज्मा थेरेपी के ट्रायल के लिए फंडिंग सीएम के राहत कोश से की जाएगी. हमें उम्मीद है कि यह कोविद महामारी के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में एक ऐतिहासिक परीक्षण होगा.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि कोविड-19 से ठीक होने वाले लोगों के प्लाज्मा में एंटी बॉडीज होती हैं, जो कोविड-19 से पीड़ित अन्य लोगों की इस बीमारी से लड़ने में मदद करती हैं. इस वजह से प्लाज्मा थेरेपी को कोविड-19 के खिलाफ इस जंग में बेहद लाभकारी माना जा रहा है.