संजय राउत बोले- अजित पवार कोई बड़े नेता नहीं, राज्यपाल कहें तो हम 10 मिनट में बहुमत साबित कर देंगे

वहीं, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री के रूप में शनिवार को शपथ लेने वाले राकांपा नेता अजित पवार रविवार तड़के चर्चगेट के पास अपने निजी आवास लौटे.

मुंबई:

महाराष्ट्र में जारी सियासी घमासान के बीच रविवार सुबह शिवसेना सांसद संजय राउत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. मीडिया को संबोधित करते हुए संजय राउत ने कहा कि अजित पवार कोई बड़े नेता नहीं है. अगर राज्यपाल हमें अभी बुलाते हैं तो हम 10 मिनट में बहुमत साबित कर देंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि हम डरने वाले नहीं है, बल्कि भाजपा को डराकर भगा देंगे. राउत ने कहा, 'शरद पवार एक राष्ट्रीय नेता हैं. अगर भाजपा सरकार बनाने की कोशिश कर रही है तो वह सरकार नहीं बना पाएगी. यह भाजपा और अजित पवार का गलत कदम है. 165 विधायक कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के साथ हैं. अजित पवार ने अपनी जिंदगी का सबसे गलत काम किया है, जो इस उम्र में पवार साहब की पीठ में खंजर घोंपा है.'

साथ ही उन्होंने कहा, 'अजित पवार फर्जी कागजात लेकर राजभवन गए और राज्यपाल ने उन कागजातों को स्वीकार भी कर लिया. अगर राज्यपाल हमें आज बहुमत साबित करने के लिए कहते हैं तो हम अभी भी बहुमत साबित कर सकते हैं. 49 एनसीपी विधायक हमारे साथ हैं.'

महाराष्ट्र का सियासी नाटक: अजित पवार लौटे घर, कांग्रेस, शिवसेना और NCP ने विधायकों को होटल में ठहराया

वहीं, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री के रूप में शनिवार को शपथ लेने वाले राकांपा नेता अजित पवार रविवार तड़के चर्चगेट के पास अपने निजी आवास लौटे. सूत्रों ने यह जानकारी दी. उन्होंने शनिवार मुंबई में अपने भाई के घर पर बिताया, जबकि उनके चाचा और राकांपा प्रमुख शरद पवार ने पार्टी की एक बैठक में भाग लिया, जहां राकांपा के अधिकांश विधायक मौजूद थे. इस बीच, देवेंद्र फडणवीस के दोबारा मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के एक दिन बाद, रविवार को मुंबई में भाजपा विधायकों की एक बैठक होनी है.

महाराष्ट्र में शनिवार को सुबह सरकार बनाने वाली BJP आज सुप्रीम कोर्ट में दे सकती है यह दलील

राकांपा, कांग्रेस और शिवसेना दल यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि उनके विधायकों की खरीद-फरोख्त न की जा सके. इसे देखते हुए, राकांपा और शिवसेना अपने विधायकों को मुंबई के लग्जरी होटलों में ले गई, जबकि कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि वे अपने विधायकों को जयपुर ले जा सकते हैं. 288 सदस्यीय विधानसभा में, भाजपा सरकार को बहुमत साबित करने के लिए 145 विधायकों का समर्थन जुटाना होगा.

रवीश कुमार का ब्लॉग: 95,000 करोड़ के आरोपी को मोदी ने बना दिया महाराष्ट्र का उप मुख्यमंत्री

VIDEO: महाराष्ट्र: निर्दलीय विधायकों पर दोनों सियासी खेमों की नजर

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com