NDTV Khabar

शिवसेना, कांग्रेस और NCP के बीच गठबंधन के आसार बढ़े, महापौर के चुनाव में दिखी नजदीकियों की एक झलक

शिवसेना से वर्ली के गांधी नगर इलाके की पार्षद किशोरी पेडनेकर एशिया के सबसे अमीर महानगरपालिका की अगली महापौर बन गई हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शिवसेना, कांग्रेस और NCP के बीच गठबंधन के आसार बढ़े, महापौर के चुनाव में दिखी नजदीकियों की एक झलक

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे. (फाइल तस्वीर)

मुंबई:

महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की बीच बढ़ती नजदीकियों का उदाहरण महानगरपालिका के महापौर चुनाव में देखने मिला जब कांग्रेस और एनसीपी ने मुम्बई और ठाणे महानगरपालिका में अपने प्रत्याशी नहीं उतारे, जिसकी वजह से शिवसेना के प्रत्याशी दोनों जगह निर्विरोध जीत गए. शिवसेना से वर्ली के गांधी नगर इलाके की पार्षद किशोरी पेडनेकर एशिया के सबसे अमीर महानगरपालिका की अगली महापौर बन गई हैं. बीएमसी में महापौर के चयन के लिए सोमवार के दिन नामांकन करना था. 

बीजेपी नेता आशीष शेलार ने जहां सोमवार सुबह ट्वीट कर साफ कर दिया कि बीजेपी की ओर से इस चुनाव में कोई प्रत्याशी नहीं होगा तो वहीं सोमवार शाम पार्टी हाईकमान से बात कर कांग्रेस ने भी पर्चा नहीं भरा, जिसके कारण बीएमसी पर शिवसेना की पकड़ बनी रही. 

महाराष्ट्र की सरकार पर सस्पेंस बरकरार! सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद भी NCP चीफ शरद पवार ने नहीं खोले पत्ते


महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बीच नजदीकियां बढ़ी हैं और इसका असर बीएमसी के साथ ही ठाणे महानगरपालिका में भी देखने मिला जहां पर भी एनसीपी ने महापौर चुनाव में प्रत्याशी नहीं उतारा और शिवसेना के नरेश म्हस्के बिना किसी विरोध के महापौर चुन लिए गए.

वहीं, शिवसेना और बीजेपी के बीच बढ़ते तनाव का असर महानगरपालिका के चुनावों में साफ नजर आ रहा है. नासिक महानगरपालिका में अपने पार्षदों के शिवसेना से संपर्क में होने के डर से बीजेपी ने सभी पार्षदों को नासिक से करीब 600 किलोमीटर दूर सिंधुदुर्ग में एक होटल में रखा है. शायद यह पहली बार है जब बीजेपी को अपने नेताओं के दूसरे पार्टी में शामिल होने का डर सता रहा है.

NCP प्रमुख शरद पवार से मुलाकात के बाद बोले शिवसेना नेता संजय राउत, 'मुझे भरोसा है कि जल्द ही...'

वहीं, महाराष्ट्र की सियासत पर सस्पेंस अब भी बना हुआ है. एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार सोमवार को दिल्ली में सोनिया गांधी से क़रीब एक घंटे मिले. शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने के सवाल पर पवार ने साफ़ तौर पर कुछ भी नहीं कहा. पवार ने ये भी कह दिया कि वो तो अभी सबके साथ हैं. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजों के 25 दिन बाद भी राज्य में जहां कोई सरकार नहीं बन पाई है तो वहीं उम्मीद की जा रही थी कि सोमवार शाम एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच हुई मुलाकात के बाद तस्वीर साफ होगी. बैठक के बाद शरद पवार ने आने के बाद घर पर पत्रकारों से बात की लेकिन शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर अपने पत्तों को नहीं खोला.

टिप्पणियां

केंद्रीय मंत्री ने सुझाया महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना का नया फार्मूला, संजय राउत ने कहा- अगर बीजेपी चाहे...

VIDEO: सोनिया गांधी और शरद पवार की बैठक में क्या हुआ?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement