NDTV Khabar

भगोड़े दाऊद के रिश्तेदार की शादी में दिखे महाराष्ट्र के मंत्री और विधायक, सीएम फड़णवीस ने पुलिस से मांगी रिपोर्ट

इस खबर के मीडिया में आने के बाद नाशिक पुलिस कमिश्नर रवींद्र सिंघव ने इन 10 पुलिस आधिकारियों को लेकर जांच के आदेश दिए हैं. इन सभी के बयान दर्ज कर लिए गए हैं. वहीं मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने भी सिंघल से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भगोड़े दाऊद के रिश्तेदार की शादी में दिखे महाराष्ट्र के मंत्री और विधायक, सीएम फड़णवीस ने पुलिस से मांगी रिपोर्ट

खास बातें

  1. चिकित्सा शिक्षा मंत्री गिरीश महाजन के साथ बीजेपी के विधायक
  2. 10 पुलिस अधिकारी भी गए थे शादी में
  3. सीएम फड़नवीस ने नाशिक पुलिस कमिश्नर से मांगी रिपोर्ट
मुंबई: महाराष्ट्र बीजेपी के नेता और राज्य सरकार में चिकित्सा शिक्षा मंत्री गिरीश महाजन और 10 पुलिस अधिकारी एक बड़े विवादत में फंस सकते हैं. ये लोग  भगोड़े दाऊद इब्राहिम के एक रिश्तेदार की शादी में हिस्सा लेने गए थे. मिली जानकारी के मुताबिक नाशिक में 19 मई को यह शादी हुई थी. इन पुलिस अधिकारियों में एक असिस्टेंट पुलिस कमिश्नर हैं और बाकी नौ इंस्पेक्टर लेवल के हैं. जबकि गिरीश महाजन के साथ बीजेपी विधायक देवयानी फरांदे और नाशिक के मेयर रंजना भानसी भी शादी में हिस्सा लेने पहुंचे थे. 

इस खबर के मीडिया में आने के बाद नाशिक पुलिस कमिश्नर रवींद्र सिंघल ने इन 10 पुलिस आधिकारियों को लेकर जांच के आदेश दिए हैं. इन सभी के बयान दर्ज कर लिए गए हैं. वहीं मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने भी सिंघल से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है. रवींद्र सिंघल ने बताया है कि ये शादी दाऊद की भतीजी की थी. उनके मुताबिक लड़की की मां और दाऊद की पत्नी आपस में बहने हैं.

वहीं इस बारे में गिरीश महाजन ने माना है कि वह शादी में हिस्सा लेने गए थे लेकिन उनको यह जानकारी नहीं थी कि परिवार का दाऊद से भी को रिश्ता है. महाजन ने बताया कि स्थानीय मुस्लिम नेता शहर-ए-खतीब के बेटे के शादी में गए थे. खतीब ने ही शादी का निमंत्रण भेजा था. खतीब नाशिक और आसपास के इलाकों में सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में जाने जाते हैं. वह मेडिकल के क्षेत्र में चलाए जा रहे सामाजिक कामों में काफी मदद करते हैं.

महाजन ने सफाई दी कि वह मंत्री हैं और उनके पास शादी जैसे ढेरों निमंत्रण आते हैं, उनके लिए यह संभव नहीं है कि हर किसी के पिछली जिंदगी और रिश्तों के बारे में जानकारी ले सकें. इस मामले में भी वह सिर्फ इसलिए शादी में गए थे क्योंकि वह खतीब को व्यक्तिगत तौर से जानते हैं. वहीं पुलिस कमिश्नर रवींद्र सिंघल ने का कहना है कि दुल्हन के परिवार के खिलाफ कोई केस दर्ज नहीं है और न ही पहले का भी कोई रिकॉर्ड है. पुलिस अधिकारियों के खिलाफ भी कोई जांच शुरू नहीं की गई है बस के सामान्य छानबीन है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement