महाराष्ट्र की उद्धव सरकार में विभागों का बंटवारा, शिवसेना को गृह, NCP और कांग्रेस के हिस्से आए यह मंत्रालय

Maharashtra Cabinet: महाराष्ट्र में सरकार गठन के करीब तीन हफ्तों बाद विभागों का बंटवारा हुआ. शिवसेना के एकनाथ शिंदे को गृह विभाग मिला, जबकि कांग्रेस के बाला साहेब थोरात को राजस्व विभाग मिला. वहीं, वित्त मंत्रालय NCP के जयंत पाटिल के हिस्से में आया.

खास बातें

  • वित्त मंत्रालय NCP के जयंत पाटिल के पास
  • शिवसेना के एकनाथ शिंदे को मिला गृह विभाग
  • कांग्रेस के बाला साहेब थोरात को राजस्व विभाग
नई दिल्ली:

Maharashtra Cabinet: महाराष्ट्र में सरकार गठन के करीब तीन हफ्तों बाद विभागों का बंटवारा हुआ. शिवसेना के एकनाथ शिंदे को गृह विभाग मिला, जबकि कांग्रेस के बाला साहेब थोरात को राजस्व विभाग मिला. वहीं, वित्त मंत्रालय NCP के जयंत पाटिल के हिस्से में आया. इसके अलावा NCP के छगन भुजबल को जल संपदा और ग्राम विकास मंत्रालय का प्रभार दिया गया है. इसके अलावा उद्योग और खेल महकमा सुभाष देसाई के पास रहेगा. दूसरी तरफ कांग्रेस के नितिन राउत को PWD महकमा मिला है. 

महाराष्ट्र में शिवसेना को सीएम पद पूरे पांच साल के लिए मिलने की संभावनाएं प्रबल

बता दें कि उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने 28 नवंबर को शिवाजी पार्क पर बड़े ही धूमधाम से शपथ ली थी. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ 6 मंत्रियों को भी शपथ दिलाई गई थी. इससे पहले खबर थी कि गृह विभाग को लेकर पेच फंसा था. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) की तरह गृह विभाग अपने पास रखना चाहते थे, लेकिन एनसीपी (NCP) और कांग्रेस (Congress) इस पर राजी नहीं थी. 

गठबंधन में सबसे ज्यादा फायदा शरद पवार की पार्टी NCP को, मिल सकते हैं अहम मंत्रालय

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी (Shiv Sena-Congress-NCP) की 'महा विकास अघाड़ी' के नेता के रूप में उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. उद्धव ठाकरे के साथ-साथ तीनों पार्टियों के छह नेताओं ने भी कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली. इनमें शिवसेना के कोटे से एकनाथ शिंदे और सुभाष देसाई, NCP के कोटे से जयंत पाटिल और छगन भुजबल, कांग्रेस के कोटे से बालासाहेब थोराट और नितिन राउत शामिल हैं. तीनों पार्टियों के गठबंधन को 'महाराष्ट्र विकास अघाड़ी' नाम दिया गया है. तीनों दलों के बीच कई दौर की बैठकों के बाद यह तय किया गया था कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे होंगे.

VIDEO: Exclusive: शरद पवार ने कैसे पलटा महाराष्‍ट्र का गेम