NDTV Khabar

बजरंग दल पर लगे गंभीर आरोप, बीजेपी नेता के स्कूल में छोटे बच्चों को दी बंदूक चलाने की ट्रेनिंग!

मुंबई से सटे मीरा रोड में बीजेपी के नेता के स्कूल में बंदूक चलाने का प्रशिक्षण देने का आरोप लगा है. आरोप ये भी है कि बजरंग दल वालों ने छोटे बच्चों को भी हथियार चलाना सिखाया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. बीजेपी नेता के स्कूल पर लगा गंभीर आरोप
  2. स्कूल में दिया जा रहा बंदूक चलाने का प्रशिक्षण
  3. बजरंग दल ने छोटे बच्चों को भी हथियार चलाना सिखाया
महाराष्ट्र:

मुंबई से सटे मीरा रोड में बीजेपी (BJP) नेता के स्कूल पर बंदूक चलाने का प्रशिक्षण देने का आरोप लगा है. आरोप ये भी है कि बजरंग दल (Bajrang Dal) वालों ने छोटे बच्चों को भी हथियार चलाना सिखाया. मामले में सादिक बादशाह नाम के एक शख्स ने पुलिस थाने में शिकायत करने का दावा किया है. सादिक का कहना है कि देश मे पुलिस और सेना के रहते सेल्फ डिफेन्स प्रशिक्षण की क्या जरूरत है? ये युवकों के मन में एक धर्म के प्रति नफरत पैदा करने की कोशिश है. जबकि बजरंग दल संयोजक संदीप भगत ने आरोपों को निराधार बताया है. भगत का कहना है 25 मई से 1 जून तक बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण शिविर हर साल लगता है. इसमें दौड़ने, कूदने, रैपलिंग जैसे खेल सिखाये जाते हैं, साथ में योग भी सिखाया जाता है. भगत ने किसी भी तरह के बंदूक चलाने के प्रशिक्षण से इंकार किया. हालांकि प्रशिक्षण शिविर में शामिल होने आए युवकों में से एक के हाथ में कपड़े से बने कवर में एक बंदूक थी. 

टिप्पणियां

ये भी पढ़ें: पार्क में बैठ Valentine's Day मना रहा था प्रेमी जोड़ा, Bajrang Dal ने जबरदस्ती कराई शादी


ये साफ नहीं है कि वो बंदूक थी या एयर गन. हालांकि सादिक बादशाह ने अपनी शिकायत में प्रशांत गुप्ता नाम के एक लड़के का बंदूक और आग के बीच प्रशिक्षण लेते समय के फोटो भी संलग्न किए हैं जो उसने अपने फेसबुक एकाउंट में पोस्ट की है. पर पता चला है कि वो तस्वीर पुरानी है और किसी दूसरे जगह की है. इस बीच बीजेपी के स्थानीय विधायक और स्कूल के मालिक नरेंद्र मेहता ने एनडीटीवी को बताया कि उनका निजी स्कूल है जहां पर अलग- अलग सामाजिक संस्थाएं और पार्टियां कार्यक्रम करती रहती हैं. बजरंग दल का भी प्रशिक्षण शिविर लगा था लेकिन वहां किसी भी तरह के बंदूक का प्रशिक्षण नहीं दिया गया. मेहता ने साफ किया कि एक अखबार में आग के बीच कूदते लड़के और बंदूक चलाते युवकों की तस्वीर उनके स्कूल की नहीं है. गलत तस्वीर लगाकर उनके स्कूल को बदनाम किया जा रहा है. 
पुलिस अभी इस मामले में कुछ बोलने को तैयार नहीं है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement