महात्मा गांधी जयंती पर PM मोदी ने New York Times में लिखा लेख, आने वाली पीढ़ियां रखें उन्हें याद, तो दिया 'आईंस्टाइन चैलेंज'

पीएम मोदी ने गांधी जयंती के मौके पर न्यूयॉर्क टाइम्स अखबर में लिखे अपने लेख में कही. उन्होंने अपने लेख में अल्बर्ट आईंस्टीन का भी जिक्र किया.

महात्मा गांधी जयंती पर PM मोदी ने New York Times में लिखा लेख, आने वाली पीढ़ियां रखें उन्हें याद, तो दिया 'आईंस्टाइन चैलेंज'

पीएम मोदी ने अंग्रेजी अखबार न्यूयार्क टाइम्स के लिए लिखा लेख.

नई दिल्ली:

पीएम नरेंद्र मोदी ने गांधी जंयती के मौके पर राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उन्होंने भारतीय राष्ट्रवाद की जो कल्पना की वह संकीर्ण नहीं थी, बल्कि मानवता की सेवा के लिए काम करने वाली थी. उन्होंने यह बात दो अक्टूबर यानी गांधी जयंती के मौके पर न्यूयॉर्क टाइम्स अखबर में लिखे अपने लेख में कही. उन्होंने अपने लेख में अल्बर्ट आईंस्टीन का भी जिक्र किया. पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज आप सभी के लिए आज 'आईंस्टीन चैलेंज' लेकर आया हूं. ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि महात्मा गांधी के आदर्शों को भविष्य की पीढ़ियों भी याद रखें.

पीएम मोदी ने आगे कहा कि आज के दिन महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि के रूप में आईंस्टीन चैलेंज प्रस्तावित कर रहा हूं. हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि गांधी जी के आदर्शों को भविष्य की पीढ़ियों द्वारा याद किया जाना चाहिए. मैं इस मौके पर विचारकों, उद्यमियों और तकनीकी नेताओं से अनुरोध करता हूं कि वह अपने माध्यम से महात्मा गांधी के विचारों को आगे बढ़ाएं. बता दें, पीएम मोदी ने न्यूयॉर्क टाइम्स अखबर में 'व्हाई इंडिया एंड द वर्ल्ड नीड गांधी' के नाम से एक लेख लिखा है.

alb6rlso

जो लोग खुद को सर्वेसर्वा बताने की इच्छा रखते हों वो राष्ट्रपिता के आदर्शों को कैसे समझ सकते हैं : सोनिया गांधी

पीएम मोदी ने आगे लिखा कि महात्मा गांधी में मानव समाज में कुछ सबसे बड़े विरोधाभासों के बीच एक पुल का काम करते थे. महात्मा गांधी के दांडी मार्च का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि नमक की एक चुटकी के माध्यम से और कौन आंदोलन खड़ा कर सकता था. ऐसा सिर्फ गांधी जी ही कर सकते थे. पीएम मोदी ने इस बार गांधी जयंती के मौके पर सरकार की बड़ी स्वच्छता पहल पर भी प्रकाश डाला.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व PM मनमोहन सिंह और राहुल गांधी ने दी बापू को श्रद्धांजलि

पीएम मोदी ने आगे लिखा कि विश्व के अन्य देशों की सहमति की वजह से घृणा, हिंसा और पीड़ा को समाप्त करने में काफी मदद मिली है. हमे और भी काफी कुछ हासिल करना है. जिस दिन हम इसे पूरी तरह से हालिस कर लेंगे उस दिन ही हम सही मायनों में महात्मा गांधी के सपने को पूरा कर पाएंगे. महात्मा गांधी भी अपने भजन में हमेशा ही पूरे विश्व को एक साथ लाने की बात करते थे. उनके पसंदीदा भजनों में 'वैष्णव जन तो 'में सम्‍मिलित है', जो कहता है कि एक सच्चा मानव वह है जो दूसरों के दर्द को महसूस करता है, दुख को दूर करता है और कभी अभिमानी नहीं होता है.

Newsbeep

बता दें कि महात्मा गांधी के 150वीं जयंती मनाने के लिए भारत ने विश्वभर में कई कार्यक्रमों का आयोजन किया है. इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, पीएम मोदी और अन्य बड़े नेताओं ने बापू को श्रद्धांजलि दी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गांधी जयंती: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और PM मोदी ने राजघाट पर बापू को दी श्रद्धांजलि

VIDEO: महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि