NDTV Khabar

मालेगांव ब्लास्ट मामला : कर्नल पुरोहित की याचिका पर NIA और महाराष्ट्र सरकार को नोटिस

कर्नल श्रीकांत पुरोहित की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने NIA और महाराष्ट्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मालेगांव ब्लास्ट मामला : कर्नल पुरोहित की याचिका पर NIA और महाराष्ट्र सरकार को नोटिस

कर्नल पुरोहित.

खास बातें

  1. कर्नल पुरोहित मालेगांव धमाकों के आरोपी हैं.
  2. गिरफ्तारी के बाद सालों जेल में बिताए
  3. अब बेल पर बाहर हैं.
नई दिल्ली: मालेगांव ब्लास्ट मामले में कर्नल श्रीकांत पुरोहित की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) और महाराष्ट्र सरकार को नोटिस भेजा है. कर्नल श्रीकांत पुरोहित की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने NIA और महाराष्ट्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. कोर्ट ने चार हफ्तों में जवाब देने को कहा है. कर्नल श्रीकांत पुरोहित ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर अपने ऊपर लगे UAPA को चुनौती दी है. इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने मामले में लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित और समीर कुलकर्णी की पिटीशन को खारिज कर दिया था.

आरोपियों ने गैरकानूनी गतिविधि निरोधक अधिनियम (यूएपीए) के तहत महाराष्ट्र सरकार द्वारा उन पर मुकदमा चलाने की परमिशन को चुनौती दी थी. 

यह भी पढ़ें : मालेगांव विस्फोट : सात फरवरी को साध्वी प्रज्ञा व पुरोहित के खिलाफ तय हो सकते हैं आरोप

हाई कोर्ट में क्या हुआ था -
कर्नल पुरोहित और अन्य की पिटीशन में कहा गया था कि यूएपीए के तहत मुकदमा चलाने की परमिशन देने वाले राज्य के ज्यूडिशियल डिपार्टमेंट को ट्रिब्यूनल से रिपोर्ट लेनी होती है. पुरोहित के वकील श्रीकांत शिवाडे ने कहा था, "मामले में जनवरी 2009 में अनुमति दी गई थी लेकिन ट्रिब्यूनल का गठन अक्टूबर 2010 में किया गया. लिहाजा मंजूरी का आदेश गलत है."

यह भी पढ़ें : मालेगांव ब्लास्ट : जानिए इस केस से जुड़ी 10 खास बातें...

टिप्पणियां
इसका विरोध करते हुए एनआईए के वकील संदेश पाटील ने कहा, "पुरोहित ने मंजूरी दिए जाने का मामला तब उठाया था, जब उनकी बेल पिटीशन पर हाईकोर्ट में दलील दी जा रही थी." 

VIDEO: साध्वी प्रज्ञा भी मालेगांव धमाकों में आरोपी हैं

हाईकोर्ट ने अपने ऑर्डर में कहा था कि मंजूरी दिए जाने के मुद्दे पर इस समय विचार नहीं किया जा सकता और इस पर निचली अदालत विचार कर सकती है. हाईकोर्ट ने पुरोहित को जमानत देते हुए भी यही बात कही थी. इसके बाद हाईकोर्ट ने एनआईए के वकील की दलीलों को स्वीकार कर लिया और पिटीशन को खारिज कर दिया था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement