NDTV Khabar

भाजपा से मुकाबले की तैयारी, ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक से मिलीं ममता बनर्जी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भाजपा से मुकाबले की तैयारी, ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक से मिलीं ममता बनर्जी

बीजेपी को घेरने के लिए क्षेत्रीय दल महागठबंधन बनाने की तैयारियों में जुट गए हैं

खास बातें

  1. बीजेपी के खिलाफ तमाम विपक्षी दल महागठबंधन बनाने में लग गए हैं
  2. ममता बनर्जी ने ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से की मुलाकात
  3. राष्ट्रपति चुनाव में बीजेपी को घेरने की कवायद के तहत मुलाकात की चर्चा
भुवनेश्वर: भारतीय जनता पार्टी के बढ़ते विजयी रथ को थामने के लिए सभी विपक्षी दल लामबंद होने लगे हैं. इसी सिलसिले में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से मुलाकात की. मुलाकात के बाद उन्होंने कहा कि भाजपा का मुकाबला करने के लिए क्षेत्रीय दल पर्याप्त मजबूत हैं.

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ने नवीन पटनायक के आवास पर उनसे 10 मिनट की मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा कि भाजपा से निपटने के लिए क्षेत्रीय दल पर्याप्त हैं. क्षेत्रीय दलों को भाजपा से खतरे के बारे में पूछे जाने पर पश्चिमी बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि उनसे खतरा है. उन्होंने कहा कि बीजेपी लोगों को और राजनीतिक दलों को बांटती है और क्षेत्रीय दल इस तरीके को नहीं अपनाते. कई बार वे मंत्रियों, विधायकों को खरीदते हैं या जो कर सकते हैं करते हैं.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि वे हिंदुओं, मुस्लिमों, ईसाइयों, सिखों, आदिवासियों और अनुसूचित जाति के लोगों में बंटवारा करते हैं. वे हिंदू समुदाय के अंदर भी विभाजन करते हैं, जबकि क्षेत्रीय दल ऐसा नहीं करते.

प्रस्तावित संघीय मोर्चे पर एक सवाल पर तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘यह मेरा सतत प्रयास है. हम क्षेत्रीय दलों को पसंद करते हैं और हम चाहते हैं कि क्षेत्रीय दल सतत बढ़ते रहें.’ उन्होंने कहा कि संघीय ढांचे में क्षेत्रीय दल संविधान की व्यवस्था को मजबूत करते हैं.

बीजू जनता दल के सहयोग के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘इस पार्टी के लिए उनके अंदर बहुत सम्मान है. आगामी राष्ट्रपति चुनाव पर उन्होंने कहा कि अभी इस बारे में कुछ कहना जल्दबाजी होगी. अगर ओडिशा के मुख्यमंत्री कोई नाम प्रस्तावित करते हैं तो वे उनसे बात करेंगी. प्रेस से बातचीत में दोनों मुख्यमंत्रियों ने इस बात पर जोर दिया कि यह मुलाकात राजनीतिक नहीं बल्कि शिष्टाचार भेंट थी.

(इनुपुट भाषा से भी)
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement