NDTV Khabar

सिंगुर हार के लिए ममता बनर्जी ने पार्टी कार्यकर्ताओं की 'कमीशनखोरी' को ठहराया जिम्मेदार

ममता बनर्जी पश्चिम मेदिनीपुर जिले के चंद्रकोना से 21 जून को 'जनसंजोग यात्रा' या 'कनेक्ट विद पीपुल कैंपेन' की शुरुआत करेंगी और व्यक्तिगत तौर पर जिलों का दौरा करेंगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सिंगुर हार के लिए ममता बनर्जी ने पार्टी कार्यकर्ताओं की 'कमीशनखोरी' को ठहराया जिम्मेदार

टीएमसी ने लोकसभा चुनाव 2019 में 22 सीटें जीती हैं.

खास बातें

  1. ममता बनर्जी ने कहा- अपनी वजह से हारे सिंगूर
  2. पार्टी कार्यकर्ताओं पर लगाया अवैध कमीशन लेने का आरोप
  3. सिंगुर हार टीएमसी के लिए एक बड़ा झटका है
कोलकाता:

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने शुक्रवार को कोलकाता में एक आंतरिक बैठक में  कहा कि पिछले महीने लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल की सिंगुर पर तृणमूल कांग्रेस की हार पार्टी के लिए शर्मनाक है. उन्होंने कहा, 'यह हमारी गलती है कि हमने सिंगुर को खो दिया.' सिंगुर का नुकसान एक दोहरा झटका है क्योंकि यही वह क्षेत्र है जिसने सुश्री बनर्जी को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर पहुंचा दिया था. यहां ममता ने खेतीहर जमीन का फैक्ट्री लगाने के लिए इस्तेमाल करने के खिलाफ आंदोलन किया था. वाम मोर्चा सरकार ने सिंगूर में एक टाटा कार फैक्ट्री को मंजूरी दी थी, लेकिन लेकिन ममता और उनकी पार्टी के नेतृत्व में किसानों के व्यापक आंदोलन के बाद उसे गुजरात स्थानांतरित करना पड़ा था. सिंगुर, हुगली लोकसभा सीट का हिस्सा है. इस पर इस बार बीजेपी के लॉकेट चटर्जी ने जीत दर्ज की है. 

टीएमसी द्वारा हारे गए जिलों पर चर्चा करने के लिए शुक्रवार को की गई ये पहली मीटिंग थी.  इस मीटिंग का फोकस हुगली जिले पर था जिसमें तीन संसदीय सीटें हैं. तृणमूल ने आरामबाग को बहुत मामूली अंतर से जीता, श्रीरामपुर को बडे़ अंतर से जीता लेकिन हुगली को खो दिया. 


गिरिराज सिंह ने ममता बनर्जी की तुलना उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन से की, बोले- उन्हें तो...

टीएमसी प्रमुख ने कहा कि बीजेपी ने जीत के लिए पैसा इस्तेमाल किया और ईवीएम में हेरफेर किया है.  लेकिन दर्जन भर सीटें तृणमूल कांग्रेस ने पार्टी कार्यकर्ताओं का लोगों से संपर्क में न रहने के कारण और राज्य की मुफ्त सेवाओं के लिए अवैध रूप से कमीशन लेने की वजह से गंवाई हैं. उन्होंने कहा कि इस तरह की शिकायतों पर लोगों को सीधे उन्हें लिखना चाहिए था. 

ममता बनर्जी ने पीएम मोदी को लिखा खत, नीति आयोग की बैठक शामिल होने में जताई असमर्थता

ममता बनर्जी पश्चिम मेदिनीपुर जिले के चंद्रकोना से 21 जून को  'जनसंजोग यात्रा' या 'कनेक्ट विद पीपुल कैंपेन' की शुरुआत करेंगी और व्यक्तिगत तौर पर जिलों का दौरा करेंगी. चंद्रकोना में ही ममता बनर्जी के सामने चुनाव प्रचार के वक्त जय श्री राम के नारे लगाए गए थे.  ये यात्राएं  21 जुलाई को तृणमूल की वार्षिक शहीद दिवस रैली की तैयारियों का हिस्सा हैं. इन्हें उत्तर बंगाल, जंगलमहल और सुंदरबन में भी आयोजित किया जाएगा. 

ममता बनर्जी ने बीजेपी पर कसा तंज, कहा- जो हमसे टकराएगा वो चूर-चूर हो जाएगा

पश्चिम बंगाल में इस बार के लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने 42 में से 18 सीटों जीतकर पर शानदार प्रदर्शन किया है. 2014 में सिर्फ दो सीटें ही बीजेपी के खाते में आईं थीं. वहीं राज्य विधानसभा में वर्चस्व रखने वाली टीएमसी को लोकसभा चुनाव 2019 में 22 सीटें मिली हैं, जो पिछली बार की तुलना में 16 कम है. 

टिप्पणियां

वीडियो: नीति आयोग की बैठक में शामिल नहीं होंगी ममता बनर्जी, पीएम मोदी को लिखा पत्र



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement