पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर नई मूर्ति का किया अनावरण

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को कोलकाता स्थित विद्यासागर कॉलेज में 19वीं शताब्दी के समाज सुधारक ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति का अनावरण किया.

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर नई मूर्ति का किया अनावरण

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति का किया अनावरण

खास बातें

  • ममता बनर्जी ने विद्यासागर की मूर्ति का किया अनावरण
  • पिछले महीने BJP-TMC समर्थकों के झगड़े के दौरान तोड़ दी गई थी
  • 14 मई को चुनाव प्रचार के दौरान घटित हुई थी यह घटना
नई दिल्ली:

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को कोलकाता स्थित विद्यासागर कॉलेज में 19वीं शताब्दी के समाज सुधारक ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति का अनावरण किया. मूर्ति का अनावरण उसी स्थान पर किया गया, जहां पिछले महीने लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में BJP-TMC समर्थक आपस में भिड़ गए थे और विद्यासागर की मूर्ति तोड़ दी गई थी. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विद्यासागर कॉलेज में समाजसुधारक ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को स्थापित किया. उन्होंने ईश्वरचंद्र विद्यासागर की एक आदमकद प्रतिमा का अनावरण भी किया. यह घटना 14 मई को चुनाव प्रचार के दौरान घटित हुई थी.

ममता बनर्जी का केंद्र को जवाब, कहा - याद रखिए घायल शेर ज़्यादा ख़तरनाक होता है

कार्यक्रम के दौरान ममता बनर्जी ने कहा, "मैं राज्यपाल का सम्मान करती हूं, लेकिन हर पद की संवैधानिक सीमा होती है. बंगाल को बदनाम किया जा रहा है. यदि आप बंगाल और उसकी संस्कृति को बचाना चाहते हैं, तो साथ आइए. बंगाल को गुजरात बनाने की साज़िश रची जा रही है. बंगाल गुजरात नहीं है."

वीरेंद्र कुमार होंगे लोकसभा के अंतरिम अध्यक्ष, सातवीं बार बीजेपी से चुने गए हैं सांसद

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक रैली में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि वह ईश्वर चंद्र विद्यासागर की तोड़ी गई प्रतिमा की जगह पर पंच धातु की मूर्ति बनवाएंगे. हालांकि इस प्रस्ताव को ममता बनर्जी ने अस्वीकार कर दिया था और कहा था कि अपने पांच साल के कार्यकाल में पीएम नरेंद्र मोदी ने भगवान राम की एक छोटी सी प्रतिमा बनाने में असमर्थ रहे, जिसके लिए उनकी पार्टी प्रतिबद्ध थी. उन्होंने यह भी कहा था कि बंगाल भीख नहीं मांगता, राज्य के पास मूर्ति के लिए पर्याप्त धन है.