तीन साल पहले मंगल की कक्षा में पहुंचा था मंगलयान, इसरो ने जारी किए आंकड़े

उपग्रह अच्छी हालत में है और अपेक्षा के अनुरूप सतत काम कर रहा है.’ इसरो के जनसंपर्क निदेशक देवीप्रसाद कर्णिक ने कहा कि मंगलयान से मिले आंकड़ों का वैज्ञानिक विश्लेषण जारी है.

तीन साल पहले मंगल की कक्षा में पहुंचा था मंगलयान, इसरो ने जारी किए आंकड़े

(फाइल फोटो)

खास बातें

  • उपग्रह अच्छी हालत में है और अपेक्षा के अनुरूप सतत काम कर रहा है.
  • मंगलयान को नौ महीने की यात्रा पर रवाना किया था.
  • यह पृथ्वी के गुरुत्व क्षेत्र से एक दिसंबर, 2013 को बाहर निकल गया था.
बेंगलूरू:

अंतरिक्ष के इतिहास में भारत का नाम स्वर्ण अक्षरों में लिख देने वाला मंगलयान लाल ग्रह का अध्ययन करने के लिए मिशन पर भेजा गया था, यह अभी काम कर रहा है और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों को लगातार मंगल ग्रह की तस्वीरें तथा डेटा भेज रहा है.  मंगल की कक्षा में भारत का मंगलयान पहुंचने की ऐतिहासिक घटना को सोमवार को तीन साल पूरे हो गये. इसरो ने कहा, ‘देश के कम लागत वाले मंगलयान मिशन को लाल ग्रह की कक्षा में पहुंचे तीन साल पूरे हो गये हैं. उपग्रह अच्छी हालत में है और अपेक्षा के अनुरूप सतत काम कर रहा है.’ इसरो के जनसंपर्क निदेशक देवीप्रसाद कर्णिक ने कहा कि मंगलयान से मिले आंकड़ों का वैज्ञानिक विश्लेषण जारी है.

भारत ने 24 सितंबर, 2014 को मंगलयान को पहले ही प्रयास में लाल ग्रह की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित किया था और ऐसे देशों के प्रतिष्ठित क्लब में शामिल हो गया.

यह भी पढ़ें : छह महीने की थी ड्यूटी, लेकिन 34 महीने बाद भी काम कर रहा है मंगलयान

इसरो ने पांच नवंबर, 2013 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से पीएसएलवी रॉकेट से मंगलयान को नौ महीने की यात्रा पर रवाना किया था. यह पृथ्वी के गुरुत्व क्षेत्र से एक दिसंबर, 2013 को बाहर निकल गया.

VIDEO :  इसरो की मंगल और शुक्र पर उड़ान भरने की तैयारी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

24 सितंबर, 2017 को मंगलयान के मंगल की कक्षा में पहुंचने के तीन साल पूरे होने के मौके पर इसरो ने 24 सितंबर, 2014 से 23 सितंबर, 2016 के आंकड़े जारी किये.

(इनपुट भाषा से)