Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कांग्रेस के 12 विधायकों ने पार्टी की प्रदेश इकाई के पद छोड़े, बीजेपी में जाने की अटकलें

मणिपुर में सियासी उथल-पुथल, कांग्रेस के पद छोड़ने वाले कुछ विधायकों ने दी सफाई, कहा-पार्टी छोड़ने की मंशा नहीं

कांग्रेस के 12 विधायकों ने पार्टी की प्रदेश इकाई के पद छोड़े, बीजेपी में जाने की अटकलें

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  • मणिपुर की दोनों लोकसभा सीटें हारने के बाद दिए इस्तीफे
  • आंतरिक मणिपुर लोकसभा सीट पर जहां भारतीय जनता पार्टी जीती
  • बाह्य मणिपुर निर्वाचन क्षेत्र में नगा पीपुल्स फ्रंट को मिली विजय
इंफाल:

मणिपुर (Manipur) में कांग्रेस (Congress) के 12 विधायकों ने पार्टी की प्रदेश इकाई के पदों से इस्तीफा दे दिया है जिससे उनके सत्तारूढ़ बीजेपी (BJP) में शामिल हो जाने की अटकलें तेज हो गई हैं. हालांकि, उनमें से कांग्रेस के एक वरिष्ठ विधायक ने कहा है कि उनकी मंशा किसी अन्य पार्टी में शामिल होने की नहीं है.

इस पूर्वोत्तर (North East) राज्य की दोनों लोकसभा सीटें हारने के बाद विधायकों ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) से बुधवार को इस्तीफा दे दिया. आंतरिक मणिपुर लोकसभा सीट पर जहां भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राजकुमार रंजन सिंह को जीत मिली वहीं बाह्य मणिपुर निर्वाचन क्षेत्र नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के लोरहो एस फोजे के हिस्से में आई.

इन इस्तीफों के बाद अटकलें तेज हो गईं कि क्या कांग्रेस विधायक बीजेपी में शामिल होने की योजना बना रहे हैं. हालांकि कुछ ने इसे यह कहकर खारिज किया कि उनका कदम जमीनी स्तर पर पार्टी को मजबूत करने के लिए है.
मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह के नेतृत्व में राज्य में बीजेपी गठबंधन की सरकार चल रही है. कांग्रेस के इन 12 विधायकों ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गैखनगम को अपना इस्तीफा सौंपा जो कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) के भी सदस्य हैं.

राज्य में 2017 के विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस के 29 विधायक थे लेकिन उसके आठ विधायक पिछले साल बीजेपी में शामिल हो गए थे जिससे 60 सदस्यीय सदन में भगवा पार्टी के विधायकों की संख्या 21 से बढ़कर 29 हो गई थी.
(इनपुट भाषा से)