NDTV Khabar

'मन की बात' में बोले पीएम नरेंद्र मोदी, 1975 की इमरजेंसी को कोई भूल नहीं सकता

प्रधानमंत्री ने कहा है, 'नरेंद्र मोदी ऐप' और 'माई गवर्नमेंट फोरम' में आइडिया और सुझाव साझा करना उन्हें पसंद है. आप टोल फ्री नंबर पर हिंदी या इंग्लिश में मैसेज रिकॉर्ड करके प्रधानमंत्री को भेज सकते हैं. इसके साथ ही 1922 पर मिस्ड कॉल करके और एसएमएस पर मिले लिंक को क्लिक करके प्रधानमंत्री को सुझाव दे सकते हैं.

1930 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
'मन की बात' में बोले पीएम नरेंद्र मोदी, 1975 की इमरजेंसी को कोई भूल नहीं सकता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 'मन की बात' कार्यक्रम करते हुए. फाइल तस्वीर

खास बातें

  1. पीएम नरेंद्र मोदी ने 33वीं बार देश के साथ की मन की बात
  2. पीएम मोदी ने इमरजेंसी को बताया काला दिन
  3. लोगों से बुके की जगह बुक देने की आदत डालने को कहा
नई दिल्ली:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 33वीं बार देशवासियों के साथ 'मन की बात' की. पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम की शुरुआत देशवासियों को ईद की शुभकामना के साथ की. उन्होंने कहा कि रमजान के महीने में मुबारकपुर के मुसलमान भाईयों ने अपने खर्चे पर शौचालय बनवाकर मिसाल पेश की है. इसके बाद पीएम मोदी ने इमरजेंसी के दिनों को याद किया. पीएम ने कहा कि 1975 की इमरजेंसी को कोई भूल नहीं सकता, पूरा देश जेल बन गया था.

'मन की बात' कार्यक्रम की मुख्य बातें पढ़ें-:
- मंगल अभियान को 6 महीने चलना था लेकिन हमारी ताकत यह है कि 1000 दिनों के बाद भी मंगलयान काम कर रहा हैः पीएम मोदी

-योग के अलावा हम अंतरिक्ष विज्ञान पर भी गर्व करते हैं। दो दिन पहले ISRO ने 31 सैटलाइट्स लॉन्च किएः पीएम मोदी

-गवर्नमेंट ई मार्केट प्लेस E-GEM से जुड़कर आप पारदर्शिता ला सकते हैंः पीएम मोदी

-कोई अगर सरकार को कुछ बेचना चाहता है तो ई जेम पर रजिस्टर कर सकता हैः पीएम मोदी

- मदुरै की एक महिला की चिट्ठी पढ़ने को मिली। उन्होंने लिखा, 'परिवार की आर्थिक मदद के लिए मुद्रा योजना से पैसे लेकर बाजार में सामान सप्लाइ करना शुरू किया। मैंने गवर्नमेंट ई मार्केट में रजिस्टर करवाया.'

- क्वीन एलिजाबेथ ने एक बार भोजन के बाद मुझे खादी का रुमाल दिखाकर कहा कि उनकी शादी के बाद उन्हें महात्मा गांधी ने भेंट किया थाः पीएम मोदी

- डॉक्टर अनिल सोनारा का फोन कॉल: पीएम सर, आपने केरल में आपने कहा था कि हमें बुके के बजाय अच्छी किताबें (बुक) देकर हमें लोगों का स्वागत करना चाहिए.
पीएम का जवाब: जब मैं गुजरात में था तो सरकार में एक परंपरा शुरू की थी कि हम बुके नहीं देंगे, हम बुक देंगे या खादी का रूमाल देंगे. दिल्ली आने के बाद मेरी आदत छूट गई थी, लेकिन केरल जाने के बाद ये बातें फिर से याद आ गई, मैं लोगों से इसे अपनाने की अपील करता हूं.

- मैंने लखनऊ में योग किया, पहली बार बारिश में योग करने का अनुभव मिला: पीएम मोदी

- 21 जून को दुनिया के क़रीब-करीब सभी देशों ने योग के इस अवसर को अपना अवसर बना दिया: पीएम मोदी

- लोकतंत्र के प्रति नित्य जागरूकता जरूरी है, लोकतंत्र को आघात पहुंचाने वाली चीजों को ध्यान रखते हुए सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ना है: पीएम मोदी

-रमजान के महीने में मुबारकपुर के मुसलमान भाईयों ने अपने खर्चे पर शौचालय बना पेश की मिसाल: पीएम मोदी

- मुझे खुशी है कि अब स्वच्छता केवल एक सरकारी कार्यक्रम नहीं रहा, ये एक जन आंदोलन बन गया है: पीएम

-सिक्किम, हिमाचल, केरल, उत्तराखंड और हरियाणा के खुले में शौच से मुक्त होने पर मेरी बधाई: पीएम

-ईद का त्योहार है, ईद उल फितर के इस अवसर पर मेरी तरफ से सबको ईद की बहुत-बहुत शुभकामनाएं.

हालांकि प्रधानमंत्री इस समय अमेरिका की यात्रा पर हैं. पीएम मोदी 'मन की बात' (Mann Ki Baat) में अलग-अलग मुद्दों और लोगों द्वारा भेजे गए विचारों व सुझावों पर अपनी बात साझा करते हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा है, 'नरेंद्र मोदी ऐप' और 'माई गवर्नमेंट फोरम' में आइडिया और सुझाव साझा करना उन्हें पसंद है. आप टोल फ्री नंबर पर हिंदी या इंग्लिश में मैसेज रिकॉर्ड करके प्रधानमंत्री को भेज सकते हैं. इसके साथ ही 1922 पर मिस्ड कॉल करके और एसएमएस पर मिले लिंक को क्लिक करके प्रधानमंत्री को सुझाव दे सकते हैं. 

कई नंबर से मिले इनपुट में बेस्ट इनपुट को प्रधानमंत्री अपने मन की बात में शामिल करते हैं. यह प्रोग्राम ऑल इंडिया रेडिया और दूरदर्शन पर प्रसारित होता है. इसके साथ ही यह प्रधानमंत्री कार्यालय, सूचना प्रसारण मंत्रालय और दूरदर्शन के यू ट्यूब चैनल पर भी देख सकते हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement