NDTV Khabar

मायावती ने SAARC देशों को लेकर पीएम मोदी की विदेश नीति पर उठाए सवाल, कहा- पड़ोसी से झगड़ा कर कोई नहीं रह सकता खुश

मायावती का इशारा 30 मई को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में दक्षेस (सार्क) देशों के बजाय बिम्सटेक के सदस्य देशों को आमंत्रित करने की ओर है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मायावती ने SAARC देशों को लेकर पीएम मोदी की विदेश नीति पर उठाए सवाल, कहा- पड़ोसी से झगड़ा कर कोई नहीं रह सकता खुश

मायावती ने ट्वीट कर पीएम मोदी की विदेश नीति पर निशाना साधा है.

खास बातें

  1. मायावती ने ट्वीट कर साधा निशाना
  2. विदेश नीति पर उठाए सवाल
  3. नेपाल राजदूत की बात का किया समर्थन
नई दिल्ली:

बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती (Mayawati) ने बीजेपी की अगुवाई वाली मोदी सरकार पर दक्षिण एशियाई देशों के संगठन दक्षेस को नजरंदाज करने का आरोप लगाया है. मायावती ने कहा कि यह नीति भारत के हित में नहीं है और पड़ोसी के साथ झगड़ा करके कोई खुश नहीं रह सकता. उन्होंने इस संबंध में  ट्वीट भी किया है. मायावती ने शनिवार को ट्विटर पर लिखा, ‘भारत में नेपाल के राजदूत की यह बात समझदारी वाली है कि बिमस्टेक (BIMSTEC) संगठन दक्षिण एशियाई देशों के सार्क (SAARC) का विकल्प नहीं हो सकता.' उन्होंने सरकार को सुझाव देते हुये कहा, ‘पड़ोसी से झगड़ा करके कोई भी खुश नहीं रह सकता. खुद पाकिस्तान इसकी मिसाल है, जिसके रिश्ते उसके पड़ोसी देशों के साथ अच्छे नहीं है और वह गर्त में जा रहा है.'

मायावती का पीएम मोदी पर पलटवार, कहा - आप खुद क्‍यों नहीं दे देते इस्‍तीफा

मायावती का इशारा 30 मई को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में दक्षेस (सार्क) देशों के बजाय बिम्सटेक के सदस्य देशों को आमंत्रित करने की ओर है. बता दें तकनीकि और आर्थिक सहयोग के लिए गठित संगठन बिम्सटेक में भारत के अलावा दक्षिण एशिया के छह देश सदस्य है. इनमें बांग्लादेश, भूटान, भारत, म्यांमार, नेपाल, थाईलैंड और श्रीलंका शामिल हैं.  वहीं सार्क देशों में  भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, भूटान और मालदीव शामिल हैं. 


बीएसपी प्रमुख मायावती बोलीं, पीएम मोदी ने खुद को जबरदस्ती का पिछड़ा घोषित कर रखा है

टिप्पणियां

बता दें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक रोज पहले ही भारत के पीएम नरेंद्र मोदी को दूसरे बार चुने जाने पर पत्र लिखकर बधाई दी है. इस पत्र में उन्होंने भारत और पाकिस्तान के बीच के मसलों को बातचीत से हल करने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि कश्मीर का मुद्दा दोनों देश बातचीत के साथ हल कर सकते हैं. 

वीडियो: गठबंधन तोड़कर क्या बीएसपी खुदको तौलना चाहती है?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement