NDTV Khabar

RSS प्रमुख के हिंदू राष्ट्र वाले बयान पर मायावती असहमत, बोलीं- हिंदुओं को ध्यान में रखकर बाबासाहेब ने नहीं बनाया था संविधान

मायावती ने कहा कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार की विफल नीतियों की वजह से मौजूदा आर्थिक सुस्ती आई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
RSS प्रमुख के हिंदू राष्ट्र वाले बयान पर मायावती असहमत, बोलीं- हिंदुओं को ध्यान में रखकर बाबासाहेब ने नहीं बनाया था संविधान
मुंबई:

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) के हिंदू राष्ट्र वाले बयान से बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने असहमति जताई है. उन्होंने कहा  कि बाबासाहेब अंबेडकर ने धर्मनिरपेक्षता के आधार पर संविधान बनाया था. महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए अपनी पार्टी का प्रचार करते हुए उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार की विफल नीतियों की वजह से मौजूदा आर्थिक सुस्ती आई है. उन्होंने दावा किया कि विपक्षी पार्टी कांग्रेस और सत्तारूढ़ भाजपा की सरकारी नौकरियों में पोदन्नति के लिए दलितों और अनुसूचित जनजातियों के आरक्षण को रोकने के लिए आंतरिक समझ है.

मायवती ने कहा, ‘‘दलितों और अनुसूचित जनजातियों के हितों के लिए बनाए गए कानूनों को सरकार ने निष्प्रभावी कर दिया है. इससे देश में वंचितों का शोषण करने वालों को बढ़ावा मिला है.'' उन्होंने कहा कि देश में धार्मिक अल्पसंख्यकों की स्थिति भी चिंताजनक है.


RSS प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- भारत न कभी हिन्दू राष्ट्र था, न है और न बनेगा' 

बसपा अध्यक्ष ने कहा, ‘‘हाल ही में आरएसएस प्रमुख ने एक बयान में कहा था कि इस देश में मुस्लिम खुश हैं क्योंकि भारत एक ‘हिंदू राष्ट्र' है. बसपा इस बयान से सहमत नहीं है. आरएसएस प्रमुख को इस तरह का बयान देने से पहले सच्चर समिति की रिपोर्ट पढ़नी चाहिए.''

मायावती ने कहा, ‘‘हम आरएसएस प्रमुख के हिंदू राष्ट्र के बयान से सहमत नहीं हैं क्योंकि बाबासाहेब अंबेडकर ने सिर्फ हिंदुओं को ध्यान में रखकर संविधान नहीं तैयार किया था. उन्होंने धर्मनिरपेक्षता के आधार पर सभी धर्म के लोगों का ख्याल रखा था.''उन्होंने कहा, ‘‘भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है न कि हिंदू राष्ट्र है.''

RSS प्रमुख मोहन भागवत बोले- सबसे ज्यादा सुखी मुसलमान भारत में मिलेगा, क्योंकि हम हिंदू हैं

टिप्पणियां

बता दें विजयदशमी के अवसर पर नागपुर में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि जो भारत के हैं, जो भारतीय पूर्वजों के वंशज हैं व सभी विविधताओं का स्वीकार, सम्मान व स्वागत करते हुए आपस में मिलजुल कर देश का वैभव व मानवता में शांति बढ़ाने का काम करने में जुट जाते हैं वे सभी भारतीय हिंदू हैं.

VIDEO: मोहन भागवत के 'मुसलमान भारत में सबसे सुखी' वाले बयान पर विवाद



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement