NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव के लिए सीट बंटवारे से पहले मायावती की शर्त पर कांग्रेस ने दी यह सफाई

कांग्रेस प्रवक्ता टॉम वडक्कन ने कहा- मायावती ने धमकी नहीं दी, उन्होंने समझाया है कि दलितों के खिलाफ केसों को लेकर दबाव बनाना जरूरी है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा चुनाव के लिए सीट बंटवारे से पहले मायावती की शर्त पर कांग्रेस ने दी यह सफाई

बीएसपी प्रमुख मायावती (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. कांग्रेस ने कहा- दलितों के खिलाफ पहले ही मामलों की समीक्षा कर रहे
  2. कर्नाटक में जमीनी सच्चाई देखने के बाद सीटों के बंटवारे पर अंतिम फैसला
  3. मध्यप्रदेश, राजस्थान में भारत बंद के दौरान दर्ज मुकदमे वापस लेने की शर्त
नई दिल्ली:

कांग्रेस ने बीएसपी (BSP) प्रमुख मायावती (Mayawati)द्वारा सीटों के बंटवारे को लेकर रखी गई शर्त पर सफाई दी है. कांग्रेस प्रवक्ता टॉम वडक्कन ने कहा है कि 'मायावती ने धमकी नहीं दी है. उन्होंने समझाया है कि दलितों के खिलाफ केसों को लेकर दबाव बनाना जरूरी है.'

वडक्कन ने कहा है कि 'हम दलितों के खिलाफ पहले ही मामलों की समीक्षा कर रहे हैं. कानूनी प्रक्रिया में समय लगता है. समस्या को सुलझा लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि कर्नाटक में जमीनी सच्चाई देखने के बाद सीटों के बंटवारे पर अंतिम फैसला पार्टी नेतृत्व लेगा. यह तो घर की ही बात है.'   

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश और राजस्थान में सरकार बनाने के लिए समर्थन देने के बाद बसपा प्रमुख मायावती  ने कांग्रेस के सामने शर्त रख दी है. बसपा की मांग है कि मध्यप्रदेश और राजस्थान की कांग्रेस सरकार 2 अप्रैल को हुए भारत बंद के दौरान दोनों राज्यों में दर्ज मुकदमे वापस ले. बसपा प्रमुख ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है तो पार्टी दोनों राज्यों की सरकारों को समर्थन पर दोबारा विचार करेगी. उन्होंने कांग्रेस सरकारों को धमकी देते हुए कहा, 'अगर कांग्रेस की नई सरकारों ने अविलंब उचित कार्रवाई नहीं की तो फिर बसपा को वहां की कांग्रेस सरकारों (मध्यप्रदेश व राजस्थान) को बाहर से समर्थन देने के मामले में पुनर्विचार करना पड़ सकता है.'


मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस को समर्थन जारी रखने के लिए BSP प्रमुख मायावती ने रखी यह शर्त

मायावती ने सोमवार को आरोप लगाया, 'एससी/एसटी कानून 1989 व सरकारी कर्मचारियों को पदोन्नति में आरक्षण की पूर्ण बहाली की मांग को लेकर 2 अप्रैल को किए गए 'भारत बंद' के दौरान उत्तर प्रदेश सहित भाजपा शासित राज्यों में से मध्यप्रदेश व राजस्थान में जातिगत और राजनीतिक द्वेष की भावना के तहत कार्रवाई की गई थी और निर्दोष लोगों को फंसाया गया था.' उन्होंने कहा कि अब मध्यप्रदेश और राजस्थान की नई कांग्रेस सरकारों को निर्दोष लोगों के खिलाफ दर्ज मामलों को तुरंत वापस लेना चाहिए और मुकदमों को खत्म करना चाहिए.

समर्थन देने के बाद मायावती ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- जनता ने दिल पर पत्थर रखकर जिताई हैं इतनी सीटें

मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस से सीटों को लेकर बात न बन पाने के बाद बीएसपी विधानसभा चुनावों में अकेले उतरी थी. बसपा को मध्यप्रदेश में दो और राजस्थान में 6 सीटों पर जीत मिली थी. बाद में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत न मिलने की स्थिति में बीएसपी ने दोनों राज्यों में समर्थन देने के ऐलान किया था.

VIDEO: मध्य प्रदेश में मायावती का कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान

टिप्पणियां

बता दें कि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने हाल नतीजे आने के बाद भी कांग्रेस पर हमला बोला था. उन्होंने कहा था कि आम जनता ने अपने दिल पर पत्थर रखकर, न चाहते हुए भी कांग्रेस (Congress) का समर्थन किया है. मायावती (Mayawati) ने कहा था कि 'हमारी पार्टी ने यह चुनाव भाजपा को सत्ता से बाहर करने के लिए लड़ा था, लेकिन दुःख की बात यह है कि हमारी पार्टी अपने इस मकसद में कामयाब नहीं हो सकी. मुझे मालूम हुआ है कि मध्यप्रदेश में अभी भी भाजपा (BJP) सत्ता में आने के लिए जोड़-तोड़ में लगी है. इसे रोकने के लिए हमारी पार्टी ने कांग्रेस की सोच और नीतियों से सहमत ना होते हुए भी, मध्य प्रदेश में कांग्रेस (Congress) को सरकार बनाने के लिए समर्थन देने का फैसला किया है. जिससे भाजपा अपने मकसद में कामयाब ना हो सके.'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement