Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

सरदार सरोवर बांध: मेधा पाटकर को अस्पताल से मिली छुट्टी, लेकिन भेजी गईं जेल

मेधा पाटकर को अस्पताल में पूरी तरह नजरबंद रखा गया, किसी को भी उनसे मिलने नहीं दिया गया. मेधा ने अस्पताल में भी अनशन जारी रखा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सरदार सरोवर बांध: मेधा पाटकर को अस्पताल से मिली छुट्टी, लेकिन भेजी गईं जेल

मेधा 27 जुलाई से ही धार जिले के चिखल्दा गांव में अपने साथियों के साथ अनशन कर रही थीं (फाइल फोटो)

इंदौर:

मध्य प्रदेश में सरदार सरोवर बांध की ऊंचाई बढ़ने से डूब में आने वाले हजारों लोगों के हक के लिए बेमियादी अनशन कर रहीं नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर को बुधवार को इंदौर के बॉम्बे अस्पताल से निकलकर शाम के वक्त बड़वानी जाते समय रास्ते में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. मेधा ने जब मुचलका भरने से इनकार कर दिया, तो उन्हें धार की जिला जेल भेज दिया गया.

यह भी पढ़ें: विस्थापितों के दर्द को लेकर अनशन पर बैठीं मेधा पाटकर की तबियत बिगड़ी

मेधा 27 जुलाई से ही धार जिले के चिखल्दा गांव में अपने 11 साथियों के साथ अनशन कर रही थीं. 12वें दिन पुलिस बल ने उन्हें जबरन उठाकर एंबुलेंस में डाल दिया और इंदौर के बॉम्बे अस्पताल में भर्ती करा दिया था. उन्हें अस्पताल में पूरी तरह नजरबंद रखा गया, किसी को भी उनसे मिलने नहीं दिया गया. मेधा ने अस्पताल में भी अनशन जारी रखा. अनशन के 14वें दिन बुधवार को उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल गई.


यह भी पढ़ें: बड़वानी में सरदार सरोवर के डूब क्षेत्र में आ रहे गांधी स्मारक को हटाने पर हंगामा

मेधा अस्पताल से निकलकर अपने कुछ साथियों के साथ शाम के समय कार के जरिए बड़वानी जा रही थीं. उन्हें रास्ते में ही गिरफ्तार कर लिया गया. नर्मदा बचाओ आंदोलन से जुड़े अमूल्य निधि ने आईएएनएस को बताया कि मेधा को बुधवार की बॉम्बे अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया. वह अपने साथियों के साथ बड़वानी जा रही थीं, तभी टोल प्लाजा पर पुलिस के जवानों ने उनकी कार रोकी और चालक की सीट पर एक पुलिस अधिकारी बैठकर कार को धार की ओर लेकर बढ़ गया.

यह भी पढ़ें: भंडारण क्षमता बढ़ाने के लिए सरदार सरोवर बांध के सभी फाटक बंद

इंदौर के संभागायुक्त (कमिश्नर) संजय दुबे ने आईएएनएस से चर्चा के दौरान स्वीकार किया कि मेधा को गिरफ्तार किया गया है. वे अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद बड़वानी जा रही थीं. धार के कलेक्टर श्रीमन शुक्ला से बताया कि मेधा को बड़वानी जाने से रोका गया, क्योंकि सर्वोच्च न्यायालय ने 31 जुलाई तक सरदार सरोवर बांध के डूब क्षेत्रों को खाली करने का आदेश दिया है. वह तारीख बीत गई है, डूब क्षेत्रों को खाली कराने में देर हो रही है. मेधा के बड़वानी पहुंचने से विस्थापितों के उग्र होने की आशंका थी. 

उन्होंने कहा कि क्षेत्र की शांति भंग हो सकती थी, इसलिए उन्हें धार जिले की सीमा पर रोका गया. जब वह लौटने को तैयार नहीं हुईं, तब उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. उनसे रिहा होने के लिए मुचलका देने को कहा गया, मगर उन्होंने ऐसा नहीं किया. उन्हें देर शाम धार के जिला जेल भेज दिया गया.

टिप्पणियां

VIDEO: अनशन पर बैठीं मेधा पाटकर को पुलिस ने उठाया सरदार सरोवर बांध की ऊंचाई बढ़ाकर 138 मीटर किए जाने से मध्यप्रदेश की नर्मदा घाटी के 192 गांवों और इनमें बसे 40 हजार परिवार प्रभावित होने वाले हैं. पुनर्वास के लिए जहां नई बस्तियां बसाने की तैयारी चल रही है, वहां सुविधाओं का अभाव है. इसलिए अधिकांश लोग उन बस्तियों में जाने को तैयार नहीं हैं. मेधा इनके पुनर्वास के बेहतर इंतजाम की मांग को लेकर आंदोलन कर रही हैं.

(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... जावेद अख्तर ने ताहिर हुसैन को लेकर किया ट्वीट, दिल्ली पुलिस पर कसा तंज- आपकी निरंतरता को सलाम...

Advertisement