मेघालय में एमडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव सदन में गिरा

करीब साढ़े सात घंटे की बहस के बाद अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान, सदन में विपक्ष के नेता मुकुल संगमा ने विशेष रूप से कोयला खनन और परिवहन का मुद्दा उठाया

मेघालय में एमडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव सदन में गिरा

मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा (फाइल फोटो).

शिलांग:

मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा के नेतृत्व वाली मेघालय डेमोक्रेटिक एलायंस (MDA) की सरकार के खिलाफ विपक्षी दल कांग्रेस द्वारा सदन में बुधवार को पेश अविश्वास प्रस्ताव ध्वनिमत से गिर गया. विधानसभा अध्यक्ष मेटबा लिंगदोह ने करीब साढ़े सात घंटे की बहस के बाद अविश्वास प्रस्ताव को मतदान के लिए सदन के पटल पर रखा. प्रस्ताव पर सदन में पक्ष और विपक्ष के विधायकों ने चर्चा में हिस्सा लिया. विपक्ष ने कोयला खनन, कोविड-19 हालात, सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं सहित तमाम मुद्दों को उठाया. सदन में विपक्ष के नेता मुकुल संगमा ने विशेष रूप से कोयला खनन और परिवहन का मुद्दा उठाया.

Newsbeep

विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने उनकी सरकार द्वारा राज्य की जनता के कल्याण के लिए उठाए गए विभिन्न कदमों के बारे में विस्तार से बताया. उन्होंने कहा कि सुशासन के दृष्टिकोण से मेघायल देश में दूसरे स्थान पर है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने कोविड-19 महामारी के दौरान लोगों की सुरक्षा पर 399 करोड़ रुपये खर्च किए हैं. उन्होंने किसानों और कामकाजी वर्ग के लिए उठाए गए कदमों की भी चर्चा की.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)